न जाने किसकी नज़र लगी है आज गुलशन को -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


माना कि फूलों की ताजगी बहुत पसंद है तुमको !


मगर कली को फूल बनने में कुछ वक्त लगता है !! 


*************************


मसल देते हैं कली को यहां पर फूल बनने से पहले ! 


फुल बनकर महकना हर कली की किस्मत में नहीं शायद !! 


*************************


फूल बनने की खुशी में कलियां मुस्कुरा रही हैं ! 


शर्म नहीं है तुमको कली का अस्तित्व मिटाने में !! 


*************************


कली है तो खिलकर रहेगी कुछ हौसला तो रखो ! 


हार बनकर गले में पहुंचना मुक़द्दर है फूल का !! 


*************************


न जाने किसकी नज़र लगी है आज गुलशन को ! 


हर कली छटपटा रही है फूल बनने को आख़िर !! 


*************************


भटक गए रास्ता भूलकर मां बाप की नसीहत सारी !


कलियों की मुस्कान छीन अच्छा नहीं किया तुमने !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने गोपाल कृष्ण चौधरी, 2016बैच के है आईपीएस अधिकारी,
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के संस्थापक स्वर्गीय बाबू बालेश्वर लाल की 35वीं पुण्यतिथि को पत्रकारिता दिवस के रूप में में मनाया गया
Image
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image