दिल की आवाज़ सुनती आ रही है लेखनी मेरी -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


हमें ज़रूरत नहीं किसी अस्त्र और शस्त्र की !! 


मेरी लेखनी की धार बहुत ही तेज है प्यारे !!


*************************


मैं अपनी लेखनी से कभी कोई सौदा नहीं करता ! 


दिल की आवाज़ सुनती आ रही है लेखनी मेरी !!


*************************


मेरी लेखनी ने ही मुझको इस मुकाम पर पहुंचाया है ! 


शहर के बड़े सेठ साहूकार इज़्ज़त से नाम लेते हैं !! 


*************************


ब्लड प्रेशर और शुगर की बीमारी से अब तक बचे हुए हैं हम ! 


लेखनी से अपने दिल की आवाज़ बाहर निकाल देता हूं प्यारे !! 


*************************


ऐसे लोगों के ज़मीर और जज़्बात का ज़िक्र मैं क्या करूं ! 


जो अपनी लेखनी को गिरवी रख देते हैं मुंह मांगी रकम पाकर !!


*************************


लेखनी का किरदार कुछ इस तरह फैला है दुनिया में ! 


तकनीकी दुनिया में भी किताबों से रिश्ता कायम है !! 


*************************


लेखनी की पूजा करता आ रहा हूं बचपन से ! 


मेरी पूजा फलित हुई है इसमें कोई शक नहीं !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
वरना माँ तो माँ है तुमसे शिकायत करेगी कैसे – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
रेड क्रॉस के सचिव कुलवेन्द्र सिंह मजहबी को राज्यपाल ने सम्मानित किया
Image