नेपाल ने विवादित नक्शा जारी कर लिपुलेख, कालापानी, लिंपियाधुरा को अपना क्षेत्र बताया, भारत और नेपाल के बीच तल्खी बढ़ी


नई दिल्ली: भारत और नेपाल के बीच तल्खी बढ़ती जा रही है. नेपाली सरकार ने बुधवार को देश का एक नया विवादित नक्शा जारी किया, जिसमें लिपुलेख, कालापानी, लिंपियाधुरा के भारतीय क्षेत्रों को अपना बताया गया है. भू प्रबंधन, सहकारिता और गरीबी उन्मूलन मंत्रालय द्वारा यह नक्शा जारी किया गया है. भारत के विरोध के बावजूद नेपाल का यह कदम दोनों देशों के बीच बिगड़ते रिश्तों को दर्शाता है. 


इस महीने की शुरुआत में नेपाली राष्ट्रपति बिध्या देवी भंडारी (Bidhya Devi Bhandari ) ने संसद के संयुक्त सत्र को संबोधित करते हुए कहा था कि देश के नए नक्शे प्रकाशित किए जाएंगे और उसमें उन सभी क्षेत्रों को शामिल किया जाएगा जिसे नेपाल अपना मानता है. उन्होंने कहा था कि लिपुलेख, कालापानी, लिंपियाधुरा नेपाल का हिस्सा हैं, और इन क्षेत्रों को पुनः प्राप्त करने की दिशा में ठोस राजनयिक प्रयास किए जाएंगे. नेपाल के सभी क्षेत्रों को शामिल करते हुए नया आधिकारिक नक्शा प्रकाशित किया जाएगा.नेपाली सरकार के दृष्टिकोण पर प्रकाश डालते हुए राष्ट्रपति ने कहा था कि सरकार नेपाल की अंतरराष्ट्रीय सीमाओं की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है और भारत के साथ सीमा विवादों को उपलब्ध ऐतिहासिक संधियों, मानचित्रों, तथ्यों और साक्ष्यों के आधार पर राजनयिक तरीके से हल किया जाएगा.



गौरतलब है कि भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह द्वारा धारचूला से लिपुलेख के लिए एक नई सड़क का उद्घाटन करने के बाद काठमांडू ने इस मुद्दे को उठाया था. इस नए मार्ग के चलते कैलाश मानसरोवर तीर्थ यात्रा में लगने वाले समय को कम किया जा सकता है. हालांकि, नेपाल ने संबंधित इलाकों पर अपना अधिकार जताकर विरोध शुरू कर दिया है. इस संबंध में नेपाल में भारतीय राजदूत विनय मोहन क्वात्रा को नेपाल के विदेशमंत्री प्रदीप कुमार ग्यावली ने बुलाकर अपना विरोध दर्ज कराया था.


लिपुलेख पर भारत ने यह स्पष्ट किया है कि उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जिले की जिस सड़क पर नेपाल ने आपत्ति जताई है, वह हिस्सा भारतीय क्षेत्र में है. नई दिल्ली को लगता है कि काठमांडू का वर्तमान रवैया नेपाल में बढ़ती चीनी दखल का परिणाम है. वहीं, भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने शुक्रवार को नेपाल के साथ लिपुलेख मुद्दे पर चर्चा में शामिल होने का संकेत दिया है. 


थिंक टैंक IDSA की ऑनलाइन मीट में नेपाल से विवाद पर बोलते हुए आर्मी चीफ ने कहा, ‘मुझे नहीं पता कि नेपाल किस मुद्दे को लेकर विरोध जता रहा है, अतीत में कभी ऐसी कोई समस्या नहीं हुई. संभव है कि वह किसी दूसरे के इशारे पर ऐसा कर रहा हो’. भले ही सेना प्रमुख ने ‘दूसरे’ का कोई नाम नहीं लिया, लेकिन यह सर्वविदित है कि चीन नेपाल में अपनी दखल लगातार बढ़ा रहा है. वैसे, मौजूदा विवाद नया नहीं है. 1816 में सुगौली संधि के तहत नेपाल के राजा ने कालापानी और लिपुलेख सहित अपने कुछ हिस्सों को ब्रिटिशों को सौंप दिया था.


Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image