अब अखिलेश ने भी बीजेपी एमपी सुब्रत पाठक पर एनएसए लगाने की मांग की


कन्नौज। कन्नौज में सदर तहसीलदार से मारपीट के मामले में भाजपा सांसद सुब्रत पाठक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जा चुका है। अब इस मामले में सियासी बयानबाजी शुरू हो गई है। गुरुवार सुबह बसपा सुप्रीमो मायावती ने प्रदेश के मुख्यमंत्री से भाजपा सांसद के खिलाफ कठोर कार्रवाई की मांग की थी। अब समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश ने यादव ने सुब्रत पाठक पर रासुका के तहत कार्रवाई करने की बात कही है। अखिलेश यादव ने घटना की निंदा करते हुए कहा कि इस घटना से कन्नौज का प्रशासन दहशत में है। पीड़ित अधिकारी द्वारा रिपोर्ट दर्ज कराने के बाद भी कन्नौज के सांसद सुब्रत पाठक के विरुद्ध विधिक कार्रवाई नहीं हुई है। मुख्यमंत्री को आरोपित सांसद पर रासुका के तहत कार्रवाई करनी चाहिए।


भाजपा सांसद सुब्रत पाठक ने गरीबों की एक लिस्ट बनाकर खाने का पैकेट वितरण करने को कहा था। इसकी सूची कन्नौज सदर के तहसीलदार अरविन्द कुमार को सौंपी गई थी। लेकिन, उनके दफ्तर को शिकायत मिली कि लोगों को राशन नहीं मिल रहा है। आरोप है कि इस पर सांसद भड़क गए और वे तहसीलदार अरविन्द कुमार के सरकारी आवास पहुंच गए। इस दौरान सांसद व उनके समर्थकों ने तहसीलदार को पीटा। तहसीलदार अरविन्द कुमार का आरोप है कि सांसद ने उनके साथ फोन कर गाली-गलौज की। उन्‍होंने कहा, 'मैंने बार-बार कहा कि सूची में जिन लोगों का नाम है, उन्हें चिन्हित करवाकर राशन मुहैया करवाया जा रहा है, लेकिन उन्होंने धमकी दी कि मैं तुम्‍हें मारने तहसील आ रहा हूं। इसके बाद मैंने इसकी सूचना एडीएम और एसडीएम को दी। एसडीएम साहब ने कहा कि तुम अपने घर चले जाओ। इसके बाद सांसद महोदय अपने 20-25 समर्थकों के साथ मेरे सरकारी आवास पर पहुंचे और जोर-जोर से दरवाजा पीटने लगे। यह देख मेरी पत्नी और बच्चे डर गए।'


तहसीलदार ने बताया, 'सांसद जी ने कहा कि तुमने सूची के मुताबिक वितरण क्यों नहीं किया...मैंने कहा कि सर वितरण कर रहा हूं, नायब साहब वितरित करा रहे हैं...मेरा मोबाइल छीन लिए और सांसद जी मुझे थप्पड़ से पीटने लगे...उनके साथ 20-25 लोग थे वे भी मुझे गिरा-गिरा कर मारने लगे।' उधर, सांसद सुब्रत पाठक का कहना है कि वह किसी के घर नहीं गए थे। दो दिन पहले ही दिल्ली से लौटे हैं। लोगों तक राशन नहीं पहुंच रहा है। तहसीलदार को फोन कर इसकी सूचना दी तो वह गाली गलौज करने लगे। उनके समर्थक जब शिकायत करने वालों की सूची लेकर पहुंचे तो उन्हें डंडे से पीटा। वह अब मुख्यमंत्री से लिखित शिकायत करेंगे।


 
मायावती ने मामले में गुरुवार को ट्वीट करते हुए कहा, "उत्तर प्रदेश के कन्नौज जिले में अपनी ईमानदारी से ड्यूटी कर रहे एक दलित तहसीलदार के साथ अभी हाल ही में, वहां के बीजेपी सांसद ने, जो मार-पीट व दुर्व्यवहार आदि किया है, यह अति शर्मनाक है। लेकिन दुख की बात यह है कि यह सांसद अभी भी, जेल में जाने की बजाय बाहर ही घूम रहा है, जिससे पूरे प्रदेश में दलित कर्मचारियों में जबर्दस्त रोष व्याप्त है। ऐसे में मुख्यमंत्री को चाहिये कि वे इस मामले में जरूर सख्त कदम उठाएं ताकि यह सांसद आगे कभी भी ऐसी हरकत ना कर सके।" एक अन्य ट्वीट में मायावती ने लिखा है, "साथ ही, पूरे प्रदेश में, खासकर दलित कर्मचारियों के साथ, आगे ऐसा कोई भी बर्ताव न हो तो इसके लिए भी, इनको अपने इस सांसद के विरूद्ध तुरन्त कठोर कार्यवाही करनी चाहिए। बीएसपी की यह मांग है।"


Popular posts
नई पीढ़ी* ने जड़ी-बूटी दिवस के रुप में मनाया आचार्य बालकृष्ण का जन्मदिन *नई पीढ़ी" के प्रेरणा श्रोत हैं आचार्य बालकृष्ण - शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी
Image
हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व जिलाध्यक्ष अज्जू हिंदुस्तानी की प्रथम पुण्य तिथि पर शांति पाठ,श्रद्धांजलि सभा, सहभोज का हुआ आयोजन
Image
प्राकृतिक तरीको से घटाए यूरिक एसिड का लेवल डा . वी . के.वर्मा
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
284 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह का डायरेक्टर गिरफ्तार
Image