जामताड़ा झारखंड जहां आलू, प्याज के भाव बिकता है काजू
 

स्वस्थ रहने के लिए जिस तरह हमारे जीवन में योग और प्राणायाम की जरूरत होती है, उसी तरह पौष्टिक आहार का सेवन करना बहुत महत्व रखता है. पौष्टिक आहारों में सूखे मेवों का इस्तेमाल भी काफी महत्व रखता है. सूखे मेवे न सिर्फ पोषण के लिए खाए जाते हैं, बल्कि यह तरह तरह के मिठाइयों और पकवानों को बनाने में भी इस्तेमाल होते हैं. (काजू बिस्किट)


इन्हीं सूखे मेवों में काजू की एक अलग ही अहमियत है जिसे हर कोई खाना पसंद करता है. लेकिन बढ़ती महंगाई ने लोगों की कमर तोड़ दी है. जब आदमी बाज़ार में काजू के दाम पूछता है, सबसे पहले वह अपनी जेब टटोलता है. क्योंकि बाज़ार में कोई भी ऐसा मेवा नहीं है जो 800 या 1000 रुपये प्रतिकिलो से कम हो, लेकिन इस देश में एक ऐसा शहर है जहां सब्जियों के दाम पर काजू बिकता है. 
(काजू लस्सी
)

 हम बात कर रहे हैं झारखंड के जामताड़ा जिला की. जामताड़ा जिला मुख्यालय से लगभग चार किमी. की दूरी पर 49 एकड़ में काजू के बागान हैं. यहां प्रतिवर्ष हजारों टन काजू की पैदावार होती है. यहां के बागानों में काम करने वाले लोग इसे सस्ते दामों यानी 10 से 20 रुपये किलो बेच देते हैं जो कि औसतन सब्जियों के मूल्य के बराबर है. यही कारण है कि भारी तादात में लोग यहां से सस्ते दामों में काजू खरीद कर ले जाते हैं. तो आप अगर कभी झारखंड जाएं तो वहां से काजू लेना न भूलें.

Popular posts
राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की 67 वी जयंती पर राजभवन बस्ती में हुए विभिन्न कार्यक्रमो ने लोगो का मन मोहा, हुआ पुस्तक विमोचन
Image
बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने गोपाल कृष्ण चौधरी, 2016बैच के है आईपीएस अधिकारी,
Image
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
संसार के चिरंजीवी महापुरुषों में एक नाम परशुराम –कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image