वरना माँ तो माँ है तुमसे शिकायत करेगी कैसे – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

साहित्य कार: एक माँ के लाडले होने का फ़र्ज़ भला तुम निभाओगे कैसे ! 

माँ की ज़िंदगी के रंज-ओ-ग़म का तुम्हें कुछ एहसास ही नहीं !! 

******************

एक माँ के ख़्वाबों का क़त्ल कर देती हैं कुछ औलादें !

एेसी औलादों से भला माँ की रूह को सुकूँ मिले तो कैसे !!

******************

तमाम बेदनाएं सहती हुई एक माँ बेटे के सामने मुस्कुराती है ! 

ताउम्र शायद ही बेटे को माँ के ग़मों का अंदाज़ा लग पाए !!

******************

समझो तो माँ ही ज़िंदगी की अनमोल दौलत है !

वरना माँ तो माँ है तुमसे शिकायत करेगी कैसे !!

******************

माँ को ताने दे - दे उसे चोट पहुँचाते रहो तुम !

एक नालायक बेटे को हक़ है ताने सुनाने का !!

******************

माँ का कर्ज़ बेटे से कभी अदा हो नहीं सकता !

हाँ मगर माँ की बात मानते रहो यही काफी है !! 

******************

माँ को भी अपने बेटे पर नाज़ करने का हक़ है !

बेहतर से बेहतर कर यह हक़ अदा कर दो तुम !!

************** तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश ! संपर्क सूत्र - 9450489518

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image