वरना माँ तो माँ है तुमसे शिकायत करेगी कैसे – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

साहित्य कार: एक माँ के लाडले होने का फ़र्ज़ भला तुम निभाओगे कैसे ! 

माँ की ज़िंदगी के रंज-ओ-ग़म का तुम्हें कुछ एहसास ही नहीं !! 

******************

एक माँ के ख़्वाबों का क़त्ल कर देती हैं कुछ औलादें !

एेसी औलादों से भला माँ की रूह को सुकूँ मिले तो कैसे !!

******************

तमाम बेदनाएं सहती हुई एक माँ बेटे के सामने मुस्कुराती है ! 

ताउम्र शायद ही बेटे को माँ के ग़मों का अंदाज़ा लग पाए !!

******************

समझो तो माँ ही ज़िंदगी की अनमोल दौलत है !

वरना माँ तो माँ है तुमसे शिकायत करेगी कैसे !!

******************

माँ को ताने दे - दे उसे चोट पहुँचाते रहो तुम !

एक नालायक बेटे को हक़ है ताने सुनाने का !!

******************

माँ का कर्ज़ बेटे से कभी अदा हो नहीं सकता !

हाँ मगर माँ की बात मानते रहो यही काफी है !! 

******************

माँ को भी अपने बेटे पर नाज़ करने का हक़ है !

बेहतर से बेहतर कर यह हक़ अदा कर दो तुम !!

************** तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश ! संपर्क सूत्र - 9450489518

Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
महान साहित्यकार आचार्य ज्योतीन्द्र प्रसाद झा 'पंकज' की पुण्य तिथि पर वृहद कार्यक्रम आयोजित, राष्ट्रीय स्तर के साहित्यकारों ने अपनी रचनाओं द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित की
Image