इंटरनेशनल स्ट्रीट चिल्ड्रन डे पर लखनऊ से आई संगीता और आँचल ने वया की अपनी कहानी

ऐसा लगता है कि कई शोषित सड़क पर रहने और काम करने वाले बच्चों के लिए एक नए कार्य का शुभारंभ हो चुका है। यह भारत के ऐसे गुमनाम बच्चे हैं जिनका भविष्य अंधकार में है। यह बच्चे अपनी आवाज बुलंद करने के काम में लगे हुए हैं बच्चों के इस हौसले को देखते हुए सामाजिक संस्था चेतना ने इंटरनेशनल स्ट्रीट चिल्ड्रन डे पर इण्डिया इस्लामिक कल्चरर सेल्टर में पांचवे स्ट्रीट टॉक का आयोजन किया गया जिसमें कि लखनऊ, गुरुग्राम, नॉएडा और दिल्ली से आये 10 बच्चों ने अपने जीवन की कहानी को अपनी जुबानी सुनाया। 
इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि भूतपूर्व मेजर जनरल श्री प्रवीन कुमार थे जिन्होंने कि बच्चो का काफी हौसला आफजाई किया इसके साथ ही साथ बच्चो की हिम्मत को देखर कहाँ कि ये बच्चे बहुत ही हिम्मत बाले है जो कि अपनी बात इतने बड़े मंच पर रख रहे है ये बच्चे हमारे देश का भविष्य है बच्चो आप अपने जीवन में तररकी करो और देश का नाम रोशन करो। 
इसके साथ ही साथ दिल्ली बाल आयोग सदस्य श्रीमती निधि जी ने बच्चो की कहानी सुनकर कहा कि बच्चो आप अकेले नहीं हो हम सब लोग आपके साथ है। किन्तु आपको ही एक वादा करना होगा की आप लोगो को भी समाज को कुछ देना है जिस तरह से आप लोग अपने जीवन में आगे बड़े हो आप दूसरे बच्चो की आगे बढ़ने में मदद कारागर। 
इसके कार्यक्रम के वक्ता बच्चो ने अपने वक्तत्व के दौरान बाल मजदूरी , बाल विवाह ,बाल योन शोषण , दहेज़ प्रथा , मारपीट, भेदभाव, गरीबी ,बेरोजगारी जैसे आदि मुद्दों का भी विरोध किया। लखनऊ से आई आँचल (परवर्तित नाम ) अपने वक्तत्व दौरान कहा की वह बड़ी मुश्किल से स्कूल जा पाई किन्तु समाज के डेकेदारो को ये कब पसंद आपने वाला था की एक लड़की स्कूल जाए उसके माता पिता को भड़काया किन्तु आँचल ने हार नहीं मानी और वह अपनी मंजिल के रस्ते पर चलती रही आज वह दसवीं कक्षा की छात्रा हैं। 
इसी तरह से नॉएडा से आये हुए किशन (परवर्तित नाम ) ने बताया की उसने अपने जीवन में किस तरह से कठिनायों का सामना करते हुए अपने जीवन में आगे बड़ा है आज वह 10 कक्षा का छात्र होने के साथ साथ सड़क एवं कामकाजी बच्चो के अख़बार बालक नामा का एडिटर भी है। 
चेतना संस्था के निदेशक श्री संजय गुप्ता जी ने कहा कि समारोह का मुख्य उद्देश सड़क एक कामकाजी बच्चों के लिए समर्थन और जागरूकता फैलाना है जिससे कि उन्हें एक पहचान मिले और लोग इस बात को समझें कि यह बच्चे कितनी विषम परिस्थितियों में रहते हुए भी अपने सपनों को पूरा कर रहे हैं यह बच्चे भी किसी से कम नहीं है।

अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें-: 9012640281

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
वाजा इंडिया" की नई कार्यकारिणी घोषित,वरिष्ठ पत्रकार पी. बी. वर्मा अध्यक्ष,शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी महासचिव बने
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image