नाम इश्क़ का है मगर खेल हवस का दिखता है – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


इश्क़ में होने का अर्थ है इबादत की तरह दिल और दिमाग़ केंद्रित होना ! 

मुझे नहीं मालूम तुम्हारे दिल और दिमाग़ में इश्क़ की कौन सी तस्वीर है !!

*************************

इश्क़ में होने का अर्थ है दिल से दिल को लगा लेना ! 

मगर यहाँ तो इश्क़ की परिभाषा कुछ और ही दिखती है !! 

*************************

इश्क़ में होने का अर्थ है मुसीबत सिर पर लेना ! 

इश्क़ की राह कभी आसान नहीं रही दुनिया में !!

*************************

बात करें इश्क़ की तो इबादत का भाव जगना चाहिए !

जिस्म से जिस्म का मिलना इश्क़ की परिभाषा नहीं !!

*************************

अब कहाँ इश्क़ का असली रूप दिखता है दुनिया में ! 

इश्क़ के खिलाड़ी हुस्न की तलाश में घूमते फिरते हैं !! 

*************************

नाम इश्क़ का है मगर खेल हवस का दिखता है ! 

अब भला मैं कैसे कहूँ इश्क़ के पुजारी हो तुम !! 

*************************

इश्क़ करना कोई बच्चों का खेल नहीं दुनिया में ! 

इश्क़ के नाम पर बहुत से बवाल और सवाल हैं !! 

***************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकर नगर उत्तर प्रदेश ! संपर्क सूत्र – 9450489518

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image