नाम इश्क़ का है मगर खेल हवस का दिखता है – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


इश्क़ में होने का अर्थ है इबादत की तरह दिल और दिमाग़ केंद्रित होना ! 

मुझे नहीं मालूम तुम्हारे दिल और दिमाग़ में इश्क़ की कौन सी तस्वीर है !!

*************************

इश्क़ में होने का अर्थ है दिल से दिल को लगा लेना ! 

मगर यहाँ तो इश्क़ की परिभाषा कुछ और ही दिखती है !! 

*************************

इश्क़ में होने का अर्थ है मुसीबत सिर पर लेना ! 

इश्क़ की राह कभी आसान नहीं रही दुनिया में !!

*************************

बात करें इश्क़ की तो इबादत का भाव जगना चाहिए !

जिस्म से जिस्म का मिलना इश्क़ की परिभाषा नहीं !!

*************************

अब कहाँ इश्क़ का असली रूप दिखता है दुनिया में ! 

इश्क़ के खिलाड़ी हुस्न की तलाश में घूमते फिरते हैं !! 

*************************

नाम इश्क़ का है मगर खेल हवस का दिखता है ! 

अब भला मैं कैसे कहूँ इश्क़ के पुजारी हो तुम !! 

*************************

इश्क़ करना कोई बच्चों का खेल नहीं दुनिया में ! 

इश्क़ के नाम पर बहुत से बवाल और सवाल हैं !! 

***************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकर नगर उत्तर प्रदेश ! संपर्क सूत्र – 9450489518

Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
महान साहित्यकार आचार्य ज्योतीन्द्र प्रसाद झा 'पंकज' की पुण्य तिथि पर वृहद कार्यक्रम आयोजित, राष्ट्रीय स्तर के साहित्यकारों ने अपनी रचनाओं द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित की
Image