बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


 खुले विचारों के साथ सफ़र करने का आदी हूं यारों !

बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नही कभी !!

******************

बंधन से मुक्त होकर ही इंसानियत का फ़र्ज़ निभा सकते हो !

खुद बंधन में रहकर दूसरों की हिफ़ाज़त नही कर सकते तुम !

******************

मुझसे पूछते हो अगर हक़ीक़त में सुख क्या है !

मैं कहूँगा बंधन से मुक्त सफ़र करना दुनिया में !!

******************

बंधन भी ज़रूरी है कहीं – कहीं इस ज़िंदगी के लिए !

ज़िंदगी में रिश्तों का बंधन गृहस्थ की सफल परिभाषा है !!

******************

बंधन की कोई अहमियत नहीं रखती आज की युवा पीढ़ी !

नतीजा दुनिया के सामने है रिश्ते बिखर रहे हैं बात बात में !!

****************** 

बंधन का मूल्य युवाओं को जीवन में समझना होगा !

वरना हर मां बाप को हताशा होगी अपनी संतानों से !!

******************

मैं कैसे कहूं कि बंधन ज़िंदगी के लिए अभिशाप है !

बंधन में रहकर भी कुछ लोगों ने इतिहास रचा है !!

*************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश ! संपर्क सूत्र – 9450489518

Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
महान साहित्यकार आचार्य ज्योतीन्द्र प्रसाद झा 'पंकज' की पुण्य तिथि पर वृहद कार्यक्रम आयोजित, राष्ट्रीय स्तर के साहित्यकारों ने अपनी रचनाओं द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित की
Image