बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


 खुले विचारों के साथ सफ़र करने का आदी हूं यारों !

बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नही कभी !!

******************

बंधन से मुक्त होकर ही इंसानियत का फ़र्ज़ निभा सकते हो !

खुद बंधन में रहकर दूसरों की हिफ़ाज़त नही कर सकते तुम !

******************

मुझसे पूछते हो अगर हक़ीक़त में सुख क्या है !

मैं कहूँगा बंधन से मुक्त सफ़र करना दुनिया में !!

******************

बंधन भी ज़रूरी है कहीं – कहीं इस ज़िंदगी के लिए !

ज़िंदगी में रिश्तों का बंधन गृहस्थ की सफल परिभाषा है !!

******************

बंधन की कोई अहमियत नहीं रखती आज की युवा पीढ़ी !

नतीजा दुनिया के सामने है रिश्ते बिखर रहे हैं बात बात में !!

****************** 

बंधन का मूल्य युवाओं को जीवन में समझना होगा !

वरना हर मां बाप को हताशा होगी अपनी संतानों से !!

******************

मैं कैसे कहूं कि बंधन ज़िंदगी के लिए अभिशाप है !

बंधन में रहकर भी कुछ लोगों ने इतिहास रचा है !!

*************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश ! संपर्क सूत्र – 9450489518

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image