कभी-कभी मेरी बातों को गौर से सुना करो तुम – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


बड़ा अजीबोग़रीब मंज़र है इस ज़माने का !

तुम्हारी कल्पना हक़ीक़त में बदलेगी कैसे !!

******************

मेरी मानो कुछ दिन ठहर जाओ मेरी हवेली में तुम !

चंद दिनों में तुम्हारी कल्पना को पंख लग जाएंगे !!

******************

कभी-कभी मेरी बातों को गौर से सुना करो तुम !

सच कहें तुम्हारी कल्पना साकार हो जाएगी !!

******************

हंसते मुस्कुराते चेहरों से यह एहसास हो रहा हमको !

हमारी बरसों की कल्पना सच हो रही है धीरे-धीरे !!

******************

तुम्हारी कल्पना का संसार हमें झूठा लगता है !

हक़ीक़त की दुनिया आँखें खोल कर देखो !!

******************

अपनी कल्पना को मेरी राहों का कांटा समझने की भूल मत करना !!

तुम क्या समझते हो मैं तुम्हारी बातों में आकर अपना मक़सद भूल जाऊंगा !!

******************

यूं तो हर कोई अपनी कल्पना को साकार करने की सोचता है !

मगर क्या कीजिए आदमी का मुक़द्दर उसके साथ चलता है !!

***********तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
महात्मा गांधी की पोती है अमेरिकी नागरिक, जीती है ग्लैमरस लाइफ,कांतिलाल गांधी की है पुत्री
Image
बस्ती मंडल के नए डीआईजी श्री आर के भारद्वाज,अलीगढ़ के मूल निवासी है श्री भारद्वाज
Image
श्री रामधारी सिंह दिनकर सम्मान से अलंकृत हुए – शिक्षक कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु *****************
Image