कभी-कभी मेरी बातों को गौर से सुना करो तुम – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


बड़ा अजीबोग़रीब मंज़र है इस ज़माने का !

तुम्हारी कल्पना हक़ीक़त में बदलेगी कैसे !!

******************

मेरी मानो कुछ दिन ठहर जाओ मेरी हवेली में तुम !

चंद दिनों में तुम्हारी कल्पना को पंख लग जाएंगे !!

******************

कभी-कभी मेरी बातों को गौर से सुना करो तुम !

सच कहें तुम्हारी कल्पना साकार हो जाएगी !!

******************

हंसते मुस्कुराते चेहरों से यह एहसास हो रहा हमको !

हमारी बरसों की कल्पना सच हो रही है धीरे-धीरे !!

******************

तुम्हारी कल्पना का संसार हमें झूठा लगता है !

हक़ीक़त की दुनिया आँखें खोल कर देखो !!

******************

अपनी कल्पना को मेरी राहों का कांटा समझने की भूल मत करना !!

तुम क्या समझते हो मैं तुम्हारी बातों में आकर अपना मक़सद भूल जाऊंगा !!

******************

यूं तो हर कोई अपनी कल्पना को साकार करने की सोचता है !

मगर क्या कीजिए आदमी का मुक़द्दर उसके साथ चलता है !!

***********तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image