एक शर्त है बहाने बनाना अभी से छोड़ दो तुम : : कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


बहाने बनाकर कब तक बचते फिरोगे मुझसे !

मेरा दिल और दिमाग़ सच्चाई जान लेता है !!

************************* सच का सामना करना अभी से सीखो !

बहाने बनाना मुसीबतों का आमंत्रण है !!

*************************

हर बार बाप अपना माथा पीट लेता है !

बेटा है कि बहाना छोड़ने को तैयार नहीं !!

*************************

बहाने बनाकर ज़िंदगी में क्या हासिल होगा !

काम का परिणाम काम करने से ही मिलता है !!

*************************

बचपन से ही बहाने बनाने की आदत रही है उसकी !

भला जवानी में घर की ज़िम्मेदारियां पूरी करे कैसे !!

*************************

बाप होकर भी बच्चे की तरह बहाने बनाते हो !

जरा सोचो तुम्हारे बच्चों का भविष्य क्या होगा !!

*************************

ज़िंदगी में हर काम तुम्हारा आसान हो जाएगा !

एक शर्त है बहाने बनाना अभी से छोड़ दो तुम !!

***********तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकर नगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image