सुकून की तलाश में अध्यात्म की शरण क्यों नहीं लेते : कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


 सुकून की तलाश में अध्यात्म की शरण क्यों नहीं लेते !

सोचो माया मोह की दुनिया से क्या हासिल हुआ तुमको !!

******************

मोह के वश में सिर्फ़ नुक़सान ही होगा तय समझो !

गुरु की शरण में जाकर अपना मोह दूर करो तुम !!

******************

संत महात्मा सदा ही संदेश देते हैं माया मोह से दूर रहने को !

मगर आम आदमी क्या संत महात्मा भी इससे अछूते नहीं !!

******************

माया मोह की दुनिया में सुख की तलाश करते हैं सभी !

सच तो यह है कि माया मोह की दुनिया में दुख ही दुख है !!

******************

गृहस्थ तो गृहस्थ संत भी दुखी हैं आजकल !

माया मोह की व्याख्या समझ में आए कैसे !!

******************

माया मोह का त्याग कर जीवन सुखी कर लो तुम !

माया मोह के चक्कर में बरबाद होना तय समझो !!

******************

हमें तुम्हारी भौतिकवाद की दुनिया पसंद नही !

हमें तो जंगल में संतों के साथ कुटिया प्यारी है !!

**********तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
वरना माँ तो माँ है तुमसे शिकायत करेगी कैसे – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
रेड क्रॉस के सचिव कुलवेन्द्र सिंह मजहबी को राज्यपाल ने सम्मानित किया
Image