समझ लेना उसी दिन दुनियादारी अच्छी है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


उम्र तेरी यूं ही गुज़र जाएगी दुनियादारी सीखते - सीखते !

ज़रूरत है तुम्हें ज़िंदगी का असल मक़सद जानने की !!

*************************

दुनियादारी निभाते तेरी उम्र गुज़र जाएगी !

कभी ज़िंदगी के सपने सजा कर देखो तुम !!

*************************

दुनियादारी का खेल आसान नहीं है प्यारे !

एक उम्र गुज़र जाती है लोगों की सीखने में !!

*************************

दुनियादारी से भागकर जीना आसान नहीं !

ज़िंदगी जीनी है तो दुनियादारी सीखो तुम !!

*************************

दुनियादारी सीख गए हो तुम प्यारे !

अब अपना घर परिवार सजा लो तुम !!

*************************

दुनियादारी की कक्षाएं स्कूल में नहीं लगती !

घर परिवार व समाज ही पाठशाला है इसकी !!

*************************

खेत और मकान के बंटवारे की बात करने लगे तुम !

अब पक्का यक़ीन है मुझको दुनियादारी सीख गए तुम !!

*************************

मिलने लगे सम्मान जिस दिन से दुनिया में !

समझ लेना उसी दिन दुनियादारी अच्छी है !!

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
वरना माँ तो माँ है तुमसे शिकायत करेगी कैसे – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
रेड क्रॉस के सचिव कुलवेन्द्र सिंह मजहबी को राज्यपाल ने सम्मानित किया
Image
आशीष श्रीवास्तव,बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने,2013 बैच के आईपीएस अधिकारी है
Image