अपने मन मंदिर को पावन क्यों नहीं रखते -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


 मन मंदिर में वैचारिक प्रदूषण आ जाएं तो ! 

मन मंदिर की साफ-सफाई भी ज़रूरी है !! 

************************

तुम्हारे मन को कभी मलिन होने नहीं दूंगा ! 

मन मंदिर के एक कोने में मुझे बसाए रखो !! 

*************************

अपने मन मंदिर में पूजा करने की इजाज़त दे दो मुझको ! 

क्या पता तुम्हारे भी मन को मेरे मन से प्रेम हो जाए !! 

*************************

तमन्ना है तुम्हारे मन मंदिर की घंटी बजाने की !

तुम बताओ इबादत इस तरह मंजूर है तुमको !! 

*************************

मन मंदिर का प्रसाद बांट देने से कुछ कम नहीं होगा ! 

जहाँ तक हो सके सुविचारों का प्रसाद बांटते चलो !! 

*************************

तन के साथ-साथ मन मंदिर का श्रृंगार ज़रूरी है ज़िंदगी में ! 

मगर यह काम इतना आसान नहीं जो कर ले हर कोई !! 

*************************

तेरे मन मंदिर में हर शाम दीपक जलाना मंजूर है मुझको ! 

शर्त है मगर मेरे मन मंदिर में एक दीपक जलाओ तुम भी !! 

*************************

मन में गंदगी लेकर जीना अच्छा नहीं प्यारे ! 

अपने मन मंदिर को पावन क्यों नहीं रखते !! 

************************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
महात्मा गांधी की पोती है अमेरिकी नागरिक, जीती है ग्लैमरस लाइफ,कांतिलाल गांधी की है पुत्री
Image
बस्ती मंडल के नए डीआईजी श्री आर के भारद्वाज,अलीगढ़ के मूल निवासी है श्री भारद्वाज
Image
श्री रामधारी सिंह दिनकर सम्मान से अलंकृत हुए – शिक्षक कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु *****************
Image