इसे मेरी धृष्टता नहीं इसे मेरा संस्कार समझो -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


सिंदूर का टीका लगा कर घूम रहे हो बड़े शौक से तुम ! 

सिंदूर वह सुहाग है जो सुहागिन के माथे पर जमता है !! 

*************************

सिंदूर की क़ीमत का अंदाज़ा नहीं तुमको शायद ! 

किसी विधवा से पूछो तो शायद जान जाओ तुम !! 

*************************

तेरे मांग में सिंदूर देखने के लिए क्या कुछ नहीं किया मैंने ! 

आज जब मांग में सिंदूर पड़ गया तो हमें ही पहचानती नहीं !! 

*************************

सिंदूर सिर्फ बाज़ार में बिकने वाला एक पाउडर नहीं ! 

सिंदूर बेशकीमती सुहाग है जिसमें बड़ी ताक़त है !! 

*************************

अपनी मांग का सिंदूर किसी और को नहीं देते ! 

इसे मेरी धृष्टता नहीं इसे मेरा संस्कार समझो !! 

*************************

मांग में सिंदूर भरने की रस्म पूरी कर दिया मैंने ! 

अब तुम्हारा भी भरोसा जग गया होगा मुझ में !! 

*************************

तेरे माथे का सिंदूर यूं ही चमकता रहे भगवन ! 

जीवन पथ पर बढ़ता कदम सदा खुशहाली दे !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image
नेहरू युवा केंद्र द्वारा ब्लॉक स्तरीय खेल प्रतियोगिता का हुआ आयोजन
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
करनपुर गांव में अपर मुख्य सचिव अमित मोहन, मुख्य विकास अधिकारी सरनीत कौर ब्रोका, हर्र्रैया के उप जिलाधिकारी प्रेम प्रकाश मीणा आदि ने पौधरोपण किया
Image