इसे मेरी धृष्टता नहीं इसे मेरा संस्कार समझो -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


सिंदूर का टीका लगा कर घूम रहे हो बड़े शौक से तुम ! 

सिंदूर वह सुहाग है जो सुहागिन के माथे पर जमता है !! 

*************************

सिंदूर की क़ीमत का अंदाज़ा नहीं तुमको शायद ! 

किसी विधवा से पूछो तो शायद जान जाओ तुम !! 

*************************

तेरे मांग में सिंदूर देखने के लिए क्या कुछ नहीं किया मैंने ! 

आज जब मांग में सिंदूर पड़ गया तो हमें ही पहचानती नहीं !! 

*************************

सिंदूर सिर्फ बाज़ार में बिकने वाला एक पाउडर नहीं ! 

सिंदूर बेशकीमती सुहाग है जिसमें बड़ी ताक़त है !! 

*************************

अपनी मांग का सिंदूर किसी और को नहीं देते ! 

इसे मेरी धृष्टता नहीं इसे मेरा संस्कार समझो !! 

*************************

मांग में सिंदूर भरने की रस्म पूरी कर दिया मैंने ! 

अब तुम्हारा भी भरोसा जग गया होगा मुझ में !! 

*************************

तेरे माथे का सिंदूर यूं ही चमकता रहे भगवन ! 

जीवन पथ पर बढ़ता कदम सदा खुशहाली दे !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
ऑन लाईन कार्यक्रमों को बढ़ावा,वर्तमान समय की मांग
Image
गुरु अर्जन देव जी का 415 शहीदी वा गुरपूर्व बड़े ही श्रद्धा एम सादगी के साथ मनाया गया
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
उत्तर प्रदेश में COVID-19 के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों से जुड़ी सरकारी योजनाओं और सुविधाओं पर समझ बनाने हेतु राज्य स्तरीय परिचर्चा का हुआ आयोजन
Image
बस्ती में नाइट कर्फ्यू का आगाज,रात 9बजे से सुबह 6बजे तक रहेगा कर्फ्यू,आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी व्यक्तियों के आने-जाने पर रोक,
Image