बेचैन दिल की दवा बहुत महंगी है ज़माने में -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


बेचैन हो गया है अब हर कोई लॉकडाउन में ! 

भला कोरोना वायरस का अंत होगा कब तक !! 

*************************

बेचैन आशिक़ को तसल्ली मिले कैसे ! 

दिल तो घायल है किसी के प्यार में !! 

*************************

बेचैन ज़िंदगी को सुकून की ज़रूरत है !

कुछ ऐसा करो ज़िंदगी नाज़ करे तुम पर !! 

*************************

मैं कैसे कह दूं तुमसे कि बहुत बेचैन हूं मैं ! 

बेचैन दिल की दवा बहुत महंगी है ज़माने में !! 

*************************

हमने तुमसे मोहब्बत का हिसाब क्या मांगा ! 

तुम बेचैन दिल की कहानी सुनाने लगे हमको !! 

*************************

बेचैन होकर भी भला क्या हासिल होगा तुमको !

अच्छा हो ज़िंदगी में लुत्फ़ लेना सीख लो तुम !! 

*************************

बेचैन होकर हासिल कुछ भी नहीं होगा तुमको ! 

हां वैक्सीन लगवा कोरोना को खत्म कर दो तुम !! 

*************************

हर वक्त बेचैनी का पहाड़ा मत पढ़ो तुम ! 

हंसते गाते ज़िंदगी का मजा उठा लो तुम !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
महात्मा गांधी की पोती है अमेरिकी नागरिक, जीती है ग्लैमरस लाइफ,कांतिलाल गांधी की है पुत्री
Image
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
ग़ज़लों की महफ़िल (दिल्ली ) ने आयोजित किया शानदार ऑनलाइन वीडियो मुशायरा,देश के कई नामी शायरों ने जूम एप के माध्यम से शिरकत किया
Image