कभी सोचा नहीं था ऐसा मंज़र भी आएगा -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


दुआ करते रहो ईश्वर से बचाए रखे दुनिया को ! 

बदल जाएगी आबोहवा हौसला दिल में रखिए !! 

*************************

अजीब खेल है विधाता का अब समझ में आया ! 

जब चाहे बिगड़ी को बना दे बने को बिगाड़ दे !! 

*************************

अब तो हर वक्त हर जगह एहतियात की ज़रूरत है ! 

कोरोना की दूसरी लहर का कहर ख़ौफ़नाक है कितना !! 

*************************

शिकायत मत करो किसी की किसी से तुम ! 

वक्त आने पर आदमी खुद ही समझ जाएगा !! 

*************************

माफ़ करते रहो तुम आदमी को आदमी समझ कर ! 

इंसानियत का यह पैग़ाम ज़रूरी है इंसान के लिए !!

*************************

तरक्क़ी का अंजाम देख लिया दुनिया ने ! 

कुदरत की छांव में ज़िंदगी के सारे सुख हैं !! 

*************************

महामारी का अंत हो जाए फरियाद यही है ऊपर वाले से ! 

रही बात आदमी की तो अब आदमी खुद से सुधर जाएगा !! 

*************************

कभी सोचा नहीं था ऐसा मंज़र भी आएगा ! 

आदमी आदमी से इस तरह दूर हो जाएगा !! 

*************************

कोरोना की भयावह तस्वीर मत दिखाओ दुनिया को ! 

कमजोर दिल वालों को कोरोना की दहशत मार डालेगी !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
सेंट एंथोनी कॉन्वेंट स्कूल डेयरी कॉलोनी गोरखपुर में महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी के जन्मदिन पर गीत संगीत और नृत्य का हुआ आयोजन
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
ईमानदारी का मिसाल बना ऑटो चालक यूसुफ ने अपनी सवारी का रुपये से भरा पर्स पाने पर पुलिस को लौटाया
Image
बिजली उपभोक्ताओं के लिए एकमुश्त समाधान योजना उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 प्रतिशत तक अधिभार में छूट:--अधिशासी अभियंता संतोष कुमार
Image
284 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह का डायरेक्टर गिरफ्तार
Image