इतना मलाल क्यों है तुमको मेरी बेवफ़ाई पर -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


तुम्हारी झील सी आंखों में डूब जाने की हसरत है मेरी ! 

दुआ करो खुदा से तुम मेरी हसरत कामयाब हो जाए !!

*************************

हसीनों की झील सी आंखों की बेवफाई देखी है मैंने ! 

जान बूझकर पहचानने से इंकार कर देती हैं अक्सर !! 

*************************

तुम चाहो तो मोहब्बत का एक नया अध्याय लिख दूं मैं ! 

तुम्हारी झील सी आंखों में मुझको एक डुबकी लगानी है !! 

************************

बड़ा नाज़ है तुमको अपनी मोहब्बत पर ! 

उसकी झील सी आंखों का ये करिश्मा है !! 

*************************

नदी के किनारे अपना आशियाना बना कर तो देखो ! 

झील सी आंखों वाली हसीना भी मिल जाएगी तुमको !!

*************************

थक कर चूर हो गए हो दिन भर यहाँ वहाँ दौड़ कर !

आओ इस झील सी आंखों में तनिक विश्राम कर लो !! 

*************************

तुम मुझसे रास्ता पूछते हो मोहब्बत का ! 

उसकी झील सी आंखों को गौर से देखो !! 

*************************

इतना मलाल क्यों है तुमको मेरी बेवफ़ाई पर ! 

मेरी झील सी आंखों में आकर डूब जाओ तुम !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने गोपाल कृष्ण चौधरी, 2016बैच के है आईपीएस अधिकारी,
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के संस्थापक स्वर्गीय बाबू बालेश्वर लाल की 35वीं पुण्यतिथि को पत्रकारिता दिवस के रूप में में मनाया गया
Image
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image