इतना मलाल क्यों है तुमको मेरी बेवफ़ाई पर -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


तुम्हारी झील सी आंखों में डूब जाने की हसरत है मेरी ! 

दुआ करो खुदा से तुम मेरी हसरत कामयाब हो जाए !!

*************************

हसीनों की झील सी आंखों की बेवफाई देखी है मैंने ! 

जान बूझकर पहचानने से इंकार कर देती हैं अक्सर !! 

*************************

तुम चाहो तो मोहब्बत का एक नया अध्याय लिख दूं मैं ! 

तुम्हारी झील सी आंखों में मुझको एक डुबकी लगानी है !! 

************************

बड़ा नाज़ है तुमको अपनी मोहब्बत पर ! 

उसकी झील सी आंखों का ये करिश्मा है !! 

*************************

नदी के किनारे अपना आशियाना बना कर तो देखो ! 

झील सी आंखों वाली हसीना भी मिल जाएगी तुमको !!

*************************

थक कर चूर हो गए हो दिन भर यहाँ वहाँ दौड़ कर !

आओ इस झील सी आंखों में तनिक विश्राम कर लो !! 

*************************

तुम मुझसे रास्ता पूछते हो मोहब्बत का ! 

उसकी झील सी आंखों को गौर से देखो !! 

*************************

इतना मलाल क्यों है तुमको मेरी बेवफ़ाई पर ! 

मेरी झील सी आंखों में आकर डूब जाओ तुम !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
प्रतिकार फिल्म चौरी चौरा 1922 में सांसद रवि किशन की दमदार भूमिका,, सीन देख कर दर्शकों की विभिन्न प्रतिक्रिया
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
श्रमजीवी पत्रकारों के देशव्यापी शीर्ष संगठन आईएफडब्ल्यूजे का 70 वां स्थापना दिवस मनाया, यूपी प्रेस क्लब में हुआ आयोजन
Image
विश्व पोलियो उन्मूलन दिवस पर रोटरी क्लब बस्ती मिडटाउन व इनरव्हील क्लब बस्ती मिडटाउन द्वारा पोलियो विजय दिवस समारोह का हुआ आयोजन
Image