औरों को सुख पहुंचाने से बेहतर कोई काम नहीं -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

भाग्य विधाता बनकर तुमने रिश्ता मुझसे आबाद किया ! 

करूं शुक्रिया कैसे तुम्हारा कोई शब्द नहीं है पास मेरे !! 

*************************

भाग्य विधाता बनकर देखो खुशहाल रहोगे तुम !

औरों को सुख पहुंचाने से बेहतर कोई काम नहीं !!

*********************

भाग्य विधाता बनकर जीना खेल नहीं है बच्चों का ! 

भाग्य विधाता कौन है किसका यह बतलाना आसान नहीं !! 

*************************

पूंजीपतियों की कोई कमी नहीं शहर में तेरे लेकिन ! 

भाग्य विधाता किसी का बनकर जीना शायद संभव हो !! 

*************************

दुनिया में अपना भाग्य विधाता खुद ही बन जाओ तुम ! 

ढूंढ ढूंढ कर भाग्य विधाता एक दिन तुम थक जाओगे !!

************************* 

जीवन की सारी कोशिश का प्रतिफल मिलना तय है एक दिन ! 

भाग्य विधाता बनकर तुमने औरों का कल्याण किया है !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
प्रतिकार फिल्म चौरी चौरा 1922 में सांसद रवि किशन की दमदार भूमिका,, सीन देख कर दर्शकों की विभिन्न प्रतिक्रिया
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
श्रमजीवी पत्रकारों के देशव्यापी शीर्ष संगठन आईएफडब्ल्यूजे का 70 वां स्थापना दिवस मनाया, यूपी प्रेस क्लब में हुआ आयोजन
Image
विश्व पोलियो उन्मूलन दिवस पर रोटरी क्लब बस्ती मिडटाउन व इनरव्हील क्लब बस्ती मिडटाउन द्वारा पोलियो विजय दिवस समारोह का हुआ आयोजन
Image