औरों को सुख पहुंचाने से बेहतर कोई काम नहीं -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

भाग्य विधाता बनकर तुमने रिश्ता मुझसे आबाद किया ! 

करूं शुक्रिया कैसे तुम्हारा कोई शब्द नहीं है पास मेरे !! 

*************************

भाग्य विधाता बनकर देखो खुशहाल रहोगे तुम !

औरों को सुख पहुंचाने से बेहतर कोई काम नहीं !!

*********************

भाग्य विधाता बनकर जीना खेल नहीं है बच्चों का ! 

भाग्य विधाता कौन है किसका यह बतलाना आसान नहीं !! 

*************************

पूंजीपतियों की कोई कमी नहीं शहर में तेरे लेकिन ! 

भाग्य विधाता किसी का बनकर जीना शायद संभव हो !! 

*************************

दुनिया में अपना भाग्य विधाता खुद ही बन जाओ तुम ! 

ढूंढ ढूंढ कर भाग्य विधाता एक दिन तुम थक जाओगे !!

************************* 

जीवन की सारी कोशिश का प्रतिफल मिलना तय है एक दिन ! 

भाग्य विधाता बनकर तुमने औरों का कल्याण किया है !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
गुरु अर्जन देव जी का 415 शहीदी वा गुरपूर्व बड़े ही श्रद्धा एम सादगी के साथ मनाया गया
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
उत्तर प्रदेश में COVID-19 के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों से जुड़ी सरकारी योजनाओं और सुविधाओं पर समझ बनाने हेतु राज्य स्तरीय परिचर्चा का हुआ आयोजन
Image
बस्ती में नाइट कर्फ्यू का आगाज,रात 9बजे से सुबह 6बजे तक रहेगा कर्फ्यू,आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी व्यक्तियों के आने-जाने पर रोक,
Image
सर्व धर्म प्रार्थना सभा का हुआ आयोजन,कोरोना से मरे लोगों को किया याद
Image