औरों को सुख पहुंचाने से बेहतर कोई काम नहीं -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

भाग्य विधाता बनकर तुमने रिश्ता मुझसे आबाद किया ! 

करूं शुक्रिया कैसे तुम्हारा कोई शब्द नहीं है पास मेरे !! 

*************************

भाग्य विधाता बनकर देखो खुशहाल रहोगे तुम !

औरों को सुख पहुंचाने से बेहतर कोई काम नहीं !!

*********************

भाग्य विधाता बनकर जीना खेल नहीं है बच्चों का ! 

भाग्य विधाता कौन है किसका यह बतलाना आसान नहीं !! 

*************************

पूंजीपतियों की कोई कमी नहीं शहर में तेरे लेकिन ! 

भाग्य विधाता किसी का बनकर जीना शायद संभव हो !! 

*************************

दुनिया में अपना भाग्य विधाता खुद ही बन जाओ तुम ! 

ढूंढ ढूंढ कर भाग्य विधाता एक दिन तुम थक जाओगे !!

************************* 

जीवन की सारी कोशिश का प्रतिफल मिलना तय है एक दिन ! 

भाग्य विधाता बनकर तुमने औरों का कल्याण किया है !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
गजलों की महफ़िल की 28 वी कड़ी में लुधियाना के प्रख्यात शायर सरदार हरदीप सिंह विरदी ने हिंदी उर्दू की बेहतरीन गजलों से महफ़िल में चार चांद लगाया,जमकर लोगो ने की हौसला अफजाई
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image