तुम जा रहे हो जंगल में तो शेर बनकर जाओ -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 मुझसे मौसम की बेवफाई का ज़िक्र क्यों करते हो ! 

आंधियों की फ़िक्र करता नहीं मैं घर से निकलने के बाद !! 

*************************

चाहते हो अपनी बहादुरी का सबूत देना मुझे तो सुन लो ! 

आंधी चले और सफ़र में कदम ना रुके यही शर्त है मेरी !! 

*************************

तुम्हें खुशी मिले तो मैं किसी हद तक जा सकता हूं ! 

आंधियों में भी तुम्हारे लिए घर से निकल सकता हूं !! 

*************************

तुम चाहो तो अपने लिए कोई सुरक्षित ठिकाना ढूंढो ! 

रही बात मेरी मैं तो आंधी में भी खुश रहने का आदी हूं !! 

*************************

तुम जा रहे हो जंगल में तो शेर बनकर जाओ ! 

आंधी का ख़ौफ़ रख जंगल में नहीं जाते प्यारे !! 

*************************

तेज आंधी के साथ मुसलाधार बारिश नहीं देखी तुमने ! 

जन्नत का दर्शन करना चाहो तो जुलाई में मेरे गांव आना !!

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
नई पीढ़ी* ने जड़ी-बूटी दिवस के रुप में मनाया आचार्य बालकृष्ण का जन्मदिन *नई पीढ़ी" के प्रेरणा श्रोत हैं आचार्य बालकृष्ण - शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी
Image
हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व जिलाध्यक्ष अज्जू हिंदुस्तानी की प्रथम पुण्य तिथि पर शांति पाठ,श्रद्धांजलि सभा, सहभोज का हुआ आयोजन
Image
प्राकृतिक तरीको से घटाए यूरिक एसिड का लेवल डा . वी . के.वर्मा
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
284 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह का डायरेक्टर गिरफ्तार
Image