तुम जा रहे हो जंगल में तो शेर बनकर जाओ -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 मुझसे मौसम की बेवफाई का ज़िक्र क्यों करते हो ! 

आंधियों की फ़िक्र करता नहीं मैं घर से निकलने के बाद !! 

*************************

चाहते हो अपनी बहादुरी का सबूत देना मुझे तो सुन लो ! 

आंधी चले और सफ़र में कदम ना रुके यही शर्त है मेरी !! 

*************************

तुम्हें खुशी मिले तो मैं किसी हद तक जा सकता हूं ! 

आंधियों में भी तुम्हारे लिए घर से निकल सकता हूं !! 

*************************

तुम चाहो तो अपने लिए कोई सुरक्षित ठिकाना ढूंढो ! 

रही बात मेरी मैं तो आंधी में भी खुश रहने का आदी हूं !! 

*************************

तुम जा रहे हो जंगल में तो शेर बनकर जाओ ! 

आंधी का ख़ौफ़ रख जंगल में नहीं जाते प्यारे !! 

*************************

तेज आंधी के साथ मुसलाधार बारिश नहीं देखी तुमने ! 

जन्नत का दर्शन करना चाहो तो जुलाई में मेरे गांव आना !!

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
महात्मा गांधी की पोती है अमेरिकी नागरिक, जीती है ग्लैमरस लाइफ,कांतिलाल गांधी की है पुत्री
Image
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
ग़ज़लों की महफ़िल (दिल्ली ) ने आयोजित किया शानदार ऑनलाइन वीडियो मुशायरा,देश के कई नामी शायरों ने जूम एप के माध्यम से शिरकत किया
Image