यूके स्ट्रेन से सतर्कता की पहचान और हस्तक्षेप पर विशेष ध्यान दिया जाएगा - केंद्र व राज्य सरकार की गाइड लाइन का हो रहा है - यूरोप से आने वाले यात्रियों की प्रतिबद्ध जा रही है जांच

बस्ती। निज संवाददाता ब्रिटेन तिब्बत (यूके) स्ट्रेन को देखते हुए यूरोप से आने वाले स्वभावों की पहचान कर इसकी रोकथाम पर स्वास्थ्य विभाग का मुख्य जोर है। केंद्र व राज्य सरकार की गाइड लाइन के अनुसार कार्य किया जा रहा है। यूरोप से आने वाले यात्रियों की पहचान कर उनकी जांच की जा रही है। यह कहना है आईडीएसपी के नोडल ऑफिसर डॉ। सीएल कन्नौजिया का। 

उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय कार्य बल ने यूके में पैदा होने के नए रूप को देखते हुए को विभाजित -19 की जांच, उपचार और निगरानी की रणनीतियों पर विचार-विमर्श किया है। ICMR ने नीति आयोग के सदस्य प्रो। विनोद पॉल और स्वास्थ्य अनुसंधान विभाग में सचिव और आईसीएमआर के महानिदेशक प्रो। बलराम भार्गव की सह अध्यक्षता में को विभाजित -19 पर बने राष्ट्रीय कार्य बल (एनटीएफ) की एक बैठक बुलाई थी। बैठक में एम्स के निदेशक प्रो। रणदीप गुलेरिया; भारतीय औषधि महानियंत्रक (जीजीआई); निदेशक, राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र (एनसीडीसी); स्वास्थ्य मंत्रालय और आईसीएमआर के अन्य अधिकारियों के साथ-साथ स्वतंत्र विषय विशेषज्ञों ने भी भाग लिया।

एनटीएफ का मुख्य उद्देश्य हाल में यूके में वायरस का नया रूप सामने आने की खबरों को देखते हुए सार्स-सीओवी -2 के लिए परीक्षण, उपचार और निगरानी की रणनीतियों में प्रमाण आधारित संशोधनों पर चर्चा करना था। वायरस के इस रूप में अवैध समानार्थी (अमीनो एसिड में परिवर्तन) परिवर्तन, छह समानताएं (गैर अमीनो एसिड परिवर्तन) और तीन विलोपन हैं। आठ परिवर्तन (म्यूटेशंस) स्पक (एस) जीन में मौजूद हैं, जो एसीई-ट्यूप्टप्टर्स की बाइंडिंग साइट (रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन) का उपचार करते हैं, जो मानव श्वसन कोशिकाओं में वायरस के प्रवेश का बिंदु है।

डॉ। कन्नौजिया ने बताया कि एनटीएफ ने निष्कर्ष निकाला कि इस तनाव में परिवर्तन को देखते हुए वर्तमान उपचार व्यवस्था में बदलाव की कोई जरूरत नहीं है। इसके अलावा चूंकि आईसीएमआर ने सार्स-सीओवी -2 के परीक्षण के लिए दो या ज्यादा जीन जांचों की वकालत करती रही है, इसलिए परीक्षण की वर्तमान रणनीति का इस्तेमाल होता है, जिससे लोगों के भागने के लिए संभावना कम ही होती है।

Popular posts
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
महात्मा गांधी की पोती है अमेरिकी नागरिक, जीती है ग्लैमरस लाइफ,कांतिलाल गांधी की है पुत्री
Image
ग़ज़लों की महफ़िल (दिल्ली ) ने आयोजित किया शानदार ऑनलाइन वीडियो मुशायरा,देश के कई नामी शायरों ने जूम एप के माध्यम से शिरकत किया
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
विद्या वाचस्पति मानद उपाधि से विभूषित हुए—कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image