हार-जीत की कोशिश में जंग अभी तक कायम है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

जीत हमारी मुश्किल लेकिन हार तुम्हारी निश्चित है ! 


हार-जीत की कोशिश में जंग अभी तक कायम है !! 


*************************


मैं तुम्हारी जीत का किस्सा बन जाऊंगा एक दिन ! 


मगर तुम भरोसा रखो मुझ पर पूरे इत्मीनान से !! 


*************************


तुम्हारे जीत की कहानी और भी रोचक हो जाती ! 


काश तुम्हारा अस्त्र-शस्त्र तैयार होता पहले से !! 


*************************


मेरी वीरता का इतिहास यह सारा शहर जानता है !


तुम्हारे शहर की मिट्टी में मेरे खून के छींटे शामिल हैं !! 


*************************


ज़िंदगी है तो कभी हार होगी और कभी जीत ! 


जीत और हार का अंत होना ही मौत का घर है !!


*************************


हमारी कोशिश का नतीजा इस मोड़ पर आ पहुंचा ! 


जीत के करीब जाकर हार का स्वाद चखा है मैंने !! 


*************************


कोई ज़रूरी नहीं जीत कर ही आप मुस्कुराएं ! 


कभी - कभी हारने के बाद भी मुस्कुराया करो !! 


****************** तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
गजलों की महफ़िल की 28 वी कड़ी में लुधियाना के प्रख्यात शायर सरदार हरदीप सिंह विरदी ने हिंदी उर्दू की बेहतरीन गजलों से महफ़िल में चार चांद लगाया,जमकर लोगो ने की हौसला अफजाई
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image