काश हर घर में आँगन और ताजी हवा को खिड़कियां होती -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


 यूं तो अंधेरों और उजालों से हमारी दोस्ती बहुत गहरी है ! 

मगर मेरे आँगन में सूरज का उजाला पहुंचता है देर से !!

*************************

तुम्हारे आँगन के कोने कोने में फूलों की महक शामिल है !

दुआ करो ख़ुदा से हर एक आँगन में फूलों की बहारें हों !! 

*************************

तुम अपने घर की खूबसूरती को जरा गौर से देखो तो सही ! 

आँगन में किलकारी करते बच्चे की मुस्कान कितनी प्यारी है !! 

*************************

यूं तो ज़िंदगी सिमटती जा रही है शहर के बंद कमरों में ! 

काश हर घर में आँगन और ताजी हवा को खिड़कियां होती !! 

*************************

यूं तो हमने घर के आँगन को सजा रखा है रंगोली और फूलों से ! 

मगर वह बात कहाँ जो तुम्हारे आने से से घर के आँगन में होती है !! 

*************************

यह मत पूछो मुझसे कितना धनवान है मेरे घर का आँगन ! 

घर के आँगन में मां - बाप , बीवी , बच्चों के साथ अपनी खुशियां हैं !! 

*************************

मैं सयाना हो गया हूं तो आँगन की तस्वीर बदल गई ! 

मेरे बचपन के आँगन में हर शाम चंदा मामा आते थे !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
नई पीढ़ी* ने जड़ी-बूटी दिवस के रुप में मनाया आचार्य बालकृष्ण का जन्मदिन *नई पीढ़ी" के प्रेरणा श्रोत हैं आचार्य बालकृष्ण - शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी
Image
हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व जिलाध्यक्ष अज्जू हिंदुस्तानी की प्रथम पुण्य तिथि पर शांति पाठ,श्रद्धांजलि सभा, सहभोज का हुआ आयोजन
Image
प्राकृतिक तरीको से घटाए यूरिक एसिड का लेवल डा . वी . के.वर्मा
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
284 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह का डायरेक्टर गिरफ्तार
Image