मगर कैसे कहूं तुम्हारी सादगी ने आज मेरे वसूल तोड़ डाले -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

बरसों से सादगी की तलाश रही मुझको ! 


आज तुमसे मिलकर कायल हो गया मैं !! 


*************************


पुराने दौर में सादगी का बड़ा बोलबाला था !! 


नए दौर में हर तरफ लफ़्फ़ाज़ी और मक्कारी है !!


*************************


भरोसा मत तोड़ना कभी भी इंसानियत का तुम ! 


तुम्हारी सादगी तुम्हें हर एक मुकाम दिलाएगी !! 


*************************


तुम्हारे लिबास की सादगी देख मुझको भरोसा है तुम पर ! 


दौलत की दरिया में कभी पाप का घड़ा नहीं भरोगे तुम !! 


*************************


मेरी सादगी का एहसास तुम्हें भी हो जाएगा पास आओ तो सही ! 


इंसान की बस्ती में रहकर शैतानों से रिश्ता नहीं रखते हम !! 


*************************


मुसीबत देख अपने वसूलों से कभी समझौता नहीं किया मैंने ! 


मगर कैसे कहूं तुम्हारी सादगी ने आज मेरे वसूल तोड़ डाले !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
बस्ती मंडल के नए डीआईजी श्री आर के भारद्वाज,अलीगढ़ के मूल निवासी है श्री भारद्वाज
Image
राष्ट्रीय ग़जलकार सम्मेलन में देश के 10 राज्यों के 26 शहरों के नामी गिरामी ग़जलकारों ने ग़ज़लों की महफ़िल सजाई, जमकर हुई हौसला अफजाई
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
बस्ती:-जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने चार्ज ग्रहण किया,मीटिंग में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी किया।
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image