इसे फुर्सत से पढ़ना तुम्हारी तक़दीर का सवाल है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

लिखे जज़्बात हैं सारे मेरा पत्र पढ़ कर देख लो तुम ! 


मन कहे यदि तुम्हारा तो आकर घर बसा लो अपना !! 


*************************


मेरे पत्र में लिखा हर शब्द मेरी रूह से निकला है ! 


इसे फुर्सत से पढ़ना तुम्हारी तक़दीर का सवाल है !! 


*************************


अपनी महबूबा को पत्र लिखा करते थे पुराने आशिक़ !


इस दौर के आशिक़ व्हाट्सएप व मैसेंजर पर चैट करते हैं !! 


*************************


बीते दिनों की बातें हैं पत्र लिखना पत्र पढ़ना !


आज तो वीडियो कॉलिंग है मगर वो बात नहीं !! 


*************************


पुराने ज़माने में पत्रों के साथ प्रेम का प्रवाह होता था ! 


आज मोबाइल की दुनिया में मोहब्बत के साथ नफ़रत है !! 


*************************


पत्र लिखना पत्र पढ़ना बहुत मायने रखता था रिश्तों को सजाने में ! 


वे बेशकीमती जज़्बात अब हैं ही कहाँ व्हाट्सएप की चैटिंग में !! 


*************************


तुम्हारी खूबसूरती को बयां कर नहीं सकता व्हाट्सएप की चैटिंग में ! 


हां फुर्सत से पत्र लिखूं तेरे नाम तो यह काम पूरा हो !! 


*****************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकर नगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने गोपाल कृष्ण चौधरी, 2016बैच के है आईपीएस अधिकारी,
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के संस्थापक स्वर्गीय बाबू बालेश्वर लाल की 35वीं पुण्यतिथि को पत्रकारिता दिवस के रूप में में मनाया गया
Image
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image