रहना है खुशहाल तो औरों को खुशी देना सीखो -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

खुशी की बात थी जो दिल खोल कर बता दिया तुमको ! 


वरना तुम से बात करना हमारे लिए बहुत मुश्किल था !! 


*************************


खुशी पाकर सपनों को पंख लग ही जाते हैं ! 


मानकर सच्चाई ज़िंदगी में कदम बढ़ाना तुम !! 


*************************


मैं दुआ कर रहा हूं खुदा से तुम्हारी उम्र लंबी हो ! 


क्या पता कुछ खुशियां हमें भी मिल जाएं तुमसे !! 


*************************


हमने तो बहुत भरोसा किया था तुम्हारी बातों पर मगर ! 


हमारी खुशियों पर ग्रहण लगा अच्छा नहीं किया तुमने !! 


*************************


तुम्हारे शहर की लड़कियां लड़कों से कहीं शातिर हैं ! 


अपनी खुशी के खातिर औरों की खुशी छीन लेती हैं !! 


*************************


बहाना बनाकर मत छुपाओ अपनी नाकामयाबी ! 


रहना है खुशहाल तो औरों को खुशी देना सीखो !! 


************************ 


बचपन में ही उसके सर से उठ गया मां बाप का साया !! 


एक तुम हो जिसे विरासत में मिली हैं सारी खुशियां !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
वाजा इंडिया" की नई कार्यकारिणी घोषित,वरिष्ठ पत्रकार पी. बी. वर्मा अध्यक्ष,शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी महासचिव बने
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image