<no title>स्वार्थ की कसौटी पर ही रिश्तों का एहतराम है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


कद्र कहाँ कोई करता है आजकल रिश्तों की !


तमाम रिश्ते घूम रहे हैं पहचान का संकट लिए !! 


*************************


रवैया ऐसा हो गया आदमी का अपने स्वार्थ में ! 


आदमी ही आदमी का खून पीने को आतुर है !! 


*************************


सामाजिक रिश्तों का अब तो कोई चलन ही नहीं ! 


औलादें मां बाप की नहीं तो फिर और किसकी !! 


*************************


स्वार्थ की की कसौटी पर ही रिश्तों का एहतराम है ! 


ज़रूरत आने पर लोग गैर को भी रिश्तेदार बताते हैं !!


*************************


वक्त के साथ कुछ आदमी खिलवाड़ करते हैं रिश्तों से ! 


मेरी थाली में खाना खाकर भी आज पहचानता नहीं मुझको !! 


*************************


तेरे पास लुटाने को दौलत है अगर तो फ़िक्र मत कर ! 


कहने सुनने को तेरे पास रिश्तों की बड़ी श्रृंखला होगी !! 


*************************


करूं गुणगान मैं किसका उतारूं आरती मैं किसकी ! 


आज का आदमी भी रंग बदलता है बहुत जल्दी से !! 


**************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
ऑन लाईन कार्यक्रमों को बढ़ावा,वर्तमान समय की मांग
Image
गुरु अर्जन देव जी का 415 शहीदी वा गुरपूर्व बड़े ही श्रद्धा एम सादगी के साथ मनाया गया
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
उत्तर प्रदेश में COVID-19 के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों से जुड़ी सरकारी योजनाओं और सुविधाओं पर समझ बनाने हेतु राज्य स्तरीय परिचर्चा का हुआ आयोजन
Image
बस्ती में नाइट कर्फ्यू का आगाज,रात 9बजे से सुबह 6बजे तक रहेगा कर्फ्यू,आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी व्यक्तियों के आने-जाने पर रोक,
Image