<no title>स्वार्थ की कसौटी पर ही रिश्तों का एहतराम है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


कद्र कहाँ कोई करता है आजकल रिश्तों की !


तमाम रिश्ते घूम रहे हैं पहचान का संकट लिए !! 


*************************


रवैया ऐसा हो गया आदमी का अपने स्वार्थ में ! 


आदमी ही आदमी का खून पीने को आतुर है !! 


*************************


सामाजिक रिश्तों का अब तो कोई चलन ही नहीं ! 


औलादें मां बाप की नहीं तो फिर और किसकी !! 


*************************


स्वार्थ की की कसौटी पर ही रिश्तों का एहतराम है ! 


ज़रूरत आने पर लोग गैर को भी रिश्तेदार बताते हैं !!


*************************


वक्त के साथ कुछ आदमी खिलवाड़ करते हैं रिश्तों से ! 


मेरी थाली में खाना खाकर भी आज पहचानता नहीं मुझको !! 


*************************


तेरे पास लुटाने को दौलत है अगर तो फ़िक्र मत कर ! 


कहने सुनने को तेरे पास रिश्तों की बड़ी श्रृंखला होगी !! 


*************************


करूं गुणगान मैं किसका उतारूं आरती मैं किसकी ! 


आज का आदमी भी रंग बदलता है बहुत जल्दी से !! 


**************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
प्रतिकार फिल्म चौरी चौरा 1922 में सांसद रवि किशन की दमदार भूमिका,, सीन देख कर दर्शकों की विभिन्न प्रतिक्रिया
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
श्रमजीवी पत्रकारों के देशव्यापी शीर्ष संगठन आईएफडब्ल्यूजे का 70 वां स्थापना दिवस मनाया, यूपी प्रेस क्लब में हुआ आयोजन
Image
विश्व पोलियो उन्मूलन दिवस पर रोटरी क्लब बस्ती मिडटाउन व इनरव्हील क्लब बस्ती मिडटाउन द्वारा पोलियो विजय दिवस समारोह का हुआ आयोजन
Image