अगर मैं तुम्हें अपना भाई कहूं तो बुरा क्या है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

जी जान से चाहता हूं मैं तुमको फिर भी ! 


न जाने किन बातों पर मुंह फुलाए बैठे हो !! 


************************


भाव मिलता है तुमसे सगे भाई से कहीं ज्यादा ! 


अगर मैं तुम्हें अपना भाई कहूं तो बुरा क्या है !! 


*************************


तुम हमेशा अपना ही हित साधने में लगे हो ! 


कभी दोस्तों और पड़ोसियों पर भी नज़र रखो !! 


*************************


तुम्हारी खुशी का पैमाना आज तक समझा नहीं मैं ! 


हां मगर तुमसे बात करके खुशी मिलती है मुझको !! 


*************************


मालूम नहीं यार तुम किस मिट्टी के बने हो ! 


दुख दर्द दूसरों का भी कभी समझो तुम!! 


*************************


एक दौर था जब आदमी को आदमी से मदद मिलती थी !! 


आदमी आदमी की मदद कर दे बड़ी बात है आजकल !! 


*************************


बारह व्यंजन खाकर भी नींद नहीं आती तुमको ! 


सोचो मजदूर नमक रोटी खाकर खर्राटे भरता है !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने गोपाल कृष्ण चौधरी, 2016बैच के है आईपीएस अधिकारी,
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
ग्रामीण पत्रकार एसोसिएशन के संस्थापक स्वर्गीय बाबू बालेश्वर लाल की 35वीं पुण्यतिथि को पत्रकारिता दिवस के रूप में में मनाया गया
Image
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image