आने वाले दिनों को संवारने की सोचो तुम -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

वक्त के साथ बदल जाओ तुम भी ! 


वरना पहचान का संकट है सामने !! 


*************************


लकीर के फकीर बने कब तक घूमोगे !


अपना एक ठिकाना बनाओ तो कहीं !! 


*************************


पुराने दिनों को याद करने से फायदा नहीं ! 


आने वाले दिनों को संवारने की सोचो तुम !! 


************************े 


माहौल इस कदर हो गया है इन दिनों !! 


बेचैन हो हर आदमी ढूंढ रहा है सुकून !! 


*************************


यहाँ बहुतेरे आदमी अब शिकार की तलाश में है ! 


बचकर रहो क्या पता किसकी नज़र है तुम पर !! 


*************************


अब कोई भी तरकीबें काम नहीं आ रही हैं ! 


आदमी को आदमी से ही ख़तरा है इन दिनों !! 


*************************


तुम्हारी सियासत तो मेरे समझ में आती नहीं ! 


मालूम नहीं कैसे भला होगा आम आदमी का !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image
वाजा इंडिया" की नई कार्यकारिणी घोषित,वरिष्ठ पत्रकार पी. बी. वर्मा अध्यक्ष,शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी महासचिव बने
Image
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन नेशनल बिल्डर इनोवेटिव टीचर अवार्ड से अलंकृत हुये आर्टिस्ट चंद्रपाल राजभर
Image