थोड़ी हया भी ज़रूरी है हुस्न की हिफ़ाज़त को -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


शर्म की बातें कहाँ से आ गई तुम्हारे जीवन में ! 


शर्म तो तुम्हारी प्रगति के सारे रास्ते रोक देगी !! 


*************************


हया को तुम औरत का एक हथियार समझो !! 


थोड़ी हया भी ज़रूरी है हुस्न की हिफ़ाज़त को !! 


*************************


यूं तो कुदरती तौर पर हुस्न की मलिका हो तुम ! 


पास थोड़ी हया होती तो मामला कुछ और होता !! 


*************************


हुस्न को बहकने में देर तो लगती ही नहीं ! 


यह हया है जो हुस्न को संभाल के रखती है !! 


*************************


शर्म हमारी खूबसूरती में चार चांद लगा देती है !


भारतीय संस्कृति में शर्म को भी गहना समझो !! 


*************************


उनसे मुलाकात का हर मौका गंवा दिया हमने ! 


काश यह शर्म नाम की बीमारी हमसे दूर होती !! 


**************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश!


Popular posts
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image
वाजा इंडिया" की नई कार्यकारिणी घोषित,वरिष्ठ पत्रकार पी. बी. वर्मा अध्यक्ष,शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी महासचिव बने
Image
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन नेशनल बिल्डर इनोवेटिव टीचर अवार्ड से अलंकृत हुये आर्टिस्ट चंद्रपाल राजभर
Image