थोड़ी हया भी ज़रूरी है हुस्न की हिफ़ाज़त को -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


शर्म की बातें कहाँ से आ गई तुम्हारे जीवन में ! 


शर्म तो तुम्हारी प्रगति के सारे रास्ते रोक देगी !! 


*************************


हया को तुम औरत का एक हथियार समझो !! 


थोड़ी हया भी ज़रूरी है हुस्न की हिफ़ाज़त को !! 


*************************


यूं तो कुदरती तौर पर हुस्न की मलिका हो तुम ! 


पास थोड़ी हया होती तो मामला कुछ और होता !! 


*************************


हुस्न को बहकने में देर तो लगती ही नहीं ! 


यह हया है जो हुस्न को संभाल के रखती है !! 


*************************


शर्म हमारी खूबसूरती में चार चांद लगा देती है !


भारतीय संस्कृति में शर्म को भी गहना समझो !! 


*************************


उनसे मुलाकात का हर मौका गंवा दिया हमने ! 


काश यह शर्म नाम की बीमारी हमसे दूर होती !! 


**************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश!


Popular posts
ऑन लाईन कार्यक्रमों को बढ़ावा,वर्तमान समय की मांग
Image
गुरु अर्जन देव जी का 415 शहीदी वा गुरपूर्व बड़े ही श्रद्धा एम सादगी के साथ मनाया गया
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
उत्तर प्रदेश में COVID-19 के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों से जुड़ी सरकारी योजनाओं और सुविधाओं पर समझ बनाने हेतु राज्य स्तरीय परिचर्चा का हुआ आयोजन
Image
बस्ती में नाइट कर्फ्यू का आगाज,रात 9बजे से सुबह 6बजे तक रहेगा कर्फ्यू,आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी व्यक्तियों के आने-जाने पर रोक,
Image