शुक्र है ख़ुदा का जो नाज़ुक वक्त में मुस्कुरा रहे हो तुम -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


बहुत नाज़ है है तुमको अपनी शानदार ज़िंदगी पर !


शुक्र है ख़ुदा का जो नाज़ुक वक्त मैं मुस्कुरा रहे हो तुम !! 


*************************


ज़िंदगी की हसीन राहों में न जाने कितने मिलते हैं ! 


सवाल यह है कि दिल में अब तक मुकाम किसका है !!


*************************


अमूमन लोगों को ज़िंदगी से शिकायत रहती है ! 


ज़िंदगी का हुलिया बिगाड़ने में हाथ किसका है !! 


*************************


आदमी की ज़िंदगी तो कुदरत का उपहार है ! 


आदमी होकर भी हम कुदरत से मज़ाक करते हैं !!


*************************


आज का बच्चा भी अपने को मां-बाप से सयाना समझता है ! 


अहम् सवाल यह है ज़िंदगी जीना अब उसे सिखाए कौन !!


*************************


आदमी की फ़िजूल शौक का अंजाम यह निकला !


बग़ावत कर रही है कुदरत आज आदमी की ज़िंदगी से !!


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image
वाजा इंडिया" की नई कार्यकारिणी घोषित,वरिष्ठ पत्रकार पी. बी. वर्मा अध्यक्ष,शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी महासचिव बने
Image
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन नेशनल बिल्डर इनोवेटिव टीचर अवार्ड से अलंकृत हुये आर्टिस्ट चंद्रपाल राजभर
Image