मगर कुदरत की नियति पर इतना एतबार रखो -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


ग़मों के साथ भी मुस्कुराहट है चेहरे पर ! 


बड़ी मेहरबानियां है कुदरत की मुझ पर !! 


*************************


लोग कहते हैं कुदरत की लीला बड़ी न्यारी है ! 


कोरोना महामारी ने साबित कर दिखाया इसको !!


*************************


कुदरत के करिश्मे को भी नकार रहे हो तुम ! 


कुदरत नाराज़ होगी तो फ़िर कहाँ जाओगे !!


*************************


ज़िंदगी जीने का तरीका आख़िर तुम्हें कब आएगा ! 


कुदरती नियमों के साथ खिलवाड़ अच्छा नहीं होता !!


*************************


माना कि तुम्हारा दुनिया पर कोई एतबार नहीं है ! 


मगर कुदरत की नियति पर अपना एतबार रखो !!


*************************


कोरोना वायरस की गिरफ़्त में पूरी दुनिया आ गई ! 


लगता है कुदरत की सहनशक्ति सीमा पार कर गई !! 


*************************


यूं तो कुदरत के नियम बड़े ही सीधे और साफ-सुथरे हैं ! 


इंसान की फ़ितरत ने ही तमाशा कर दिया कुदरत के साथ !!


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image
वाजा इंडिया" की नई कार्यकारिणी घोषित,वरिष्ठ पत्रकार पी. बी. वर्मा अध्यक्ष,शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी महासचिव बने
Image
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन नेशनल बिल्डर इनोवेटिव टीचर अवार्ड से अलंकृत हुये आर्टिस्ट चंद्रपाल राजभर
Image