तुम्हारे दिल में बसने वाला ख़्याल ही सावन का असली रंग है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


सावन के रंग कितने हैं बताना आसान नहीं है इतना ! 


तुम्हारे दिल में बसने वाला ख़्याल ही सावन का असली रंग है !! 


*************************


सावन के फूल खिलते ही लोगों को लुभाने लगते हैं ! 


देखो तो बड़ा नायाब रंग है इन सावन के फूलों का !! 


*************************


सावन की घटाएं अक्सर सवाल करने लगती हैं मुझसे ! 


कुछ का उत्तर तो आसान होता है मगर कुछ का गूढ़ लगता है !! 


*************************


सावन की रिमझिम में मेरा मन मयूर हो जाता है ! 


मन को कैसे समझाऊं ? मन कहता है मेरी मर्जी !! 


*************************


सावन की तमाम खुशबुओं में मेरे दिल के एहसास शामिल हैं ! 


मगर हर खुशबू तन्हा अपनी किस्मत पर नाज़ करती है !! 


*************************


सावन की बारिश में खुलकर नहाने का मजा तो देखिए ! 


हर एक बूंद में खुशबू का रंग निखरता है तन की खुशबू पाकर !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
ऑन लाईन कार्यक्रमों को बढ़ावा,वर्तमान समय की मांग
Image
गुरु अर्जन देव जी का 415 शहीदी वा गुरपूर्व बड़े ही श्रद्धा एम सादगी के साथ मनाया गया
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
उत्तर प्रदेश में COVID-19 के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों से जुड़ी सरकारी योजनाओं और सुविधाओं पर समझ बनाने हेतु राज्य स्तरीय परिचर्चा का हुआ आयोजन
Image
बस्ती में नाइट कर्फ्यू का आगाज,रात 9बजे से सुबह 6बजे तक रहेगा कर्फ्यू,आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी व्यक्तियों के आने-जाने पर रोक,
Image