रातरानी की खुशबू लेकर घूम रहे हो सरे बाज़ार तुम -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


पूर्णिमा की रात में मुस्कुराते हुए मेरे पास आओ तो सही ! 


अमावस की रात में तेरी मुस्कुराहट का मोल ही क्या !! 


*************************


तुम्हें लगता है कि रात में ही सारे घिनौने काम होते हैं ! 


जरा सोच कर बताओ दिन के उजाले में क्या नहीं होता !!


*************************


रात के सन्नाटे में हमारी आंखों के सामने बस एक की तस्वीर होती है ! 


वह तस्वीर तुम हो जिसकी इबादत दिन में सारी दुनिया करती है !! 


*************************


रात का सफ़र कैसा भी हो मगर एहसास दिलाता है ! 


दिन का सफ़र तो कट जाता है शोर-शराबे के साथ !! 


*************************


रात का देवता बनकर लोगों के दिल में उतरना चाहते हो ! 


सच बताऊं तुम्हारी यह शौक तुम्हें पागल बना कर रख देगी !! 


*************************


तुम्हारी फितरत का अंजाम तुम्हारी सेहत के लिए अच्छा नहीं ! 


रातरानी की खुशबू लेकर घूम रहे हो सरे बाज़ार तुम !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
ऑन लाईन कार्यक्रमों को बढ़ावा,वर्तमान समय की मांग
Image
गुरु अर्जन देव जी का 415 शहीदी वा गुरपूर्व बड़े ही श्रद्धा एम सादगी के साथ मनाया गया
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
उत्तर प्रदेश में COVID-19 के कारण अपने माता-पिता को खोने वाले बच्चों से जुड़ी सरकारी योजनाओं और सुविधाओं पर समझ बनाने हेतु राज्य स्तरीय परिचर्चा का हुआ आयोजन
Image
बस्ती में नाइट कर्फ्यू का आगाज,रात 9बजे से सुबह 6बजे तक रहेगा कर्फ्यू,आवश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी व्यक्तियों के आने-जाने पर रोक,
Image