डॉ. कृष्ण कुमार 'बेदिल' के सम्मान में अदब-सराय का मुशाएरा कामयाबी से संपन्न हुआ,शायरों ने शायरी के विविध रंगों की अनुपम छटा बिखेरी


*जन्मदिन की ख़ुशियां मुबारक हो 'बेदिल'*


*रहे दूर रंजो-मुसीबत के साए*


  *गुज़ार आए 'बेदिल' सतत्तर बहारें* *ख़ुदा सौ से जा़ईद बहारें दिखाएं*


------------------------------------------------------------------


 *दानिश मंदी से लिया फ़ने-सुख़न में काम*


*इसीलिए मकबूल है फ़ने-सुख़न में नाम*


ये शे'र जब छबड़ा के शाइर *अब्दुल सलाम मुज़्तर* ने प्रस्तुत किया तो महफ़िल में वाह-वाह की सदाएं गूंज उठी और सभी मुबारकबाद पर मुबारकबाद पेश करने लगे | मौक़ा था अदब सराय बीकानेर की जानिब से होने वाले मुशाएरा और ग़ज़ल चर्चा के कार्यक्रम *सुख़नवरी : गुफ़्तगू-ए-ग़ज़ल* की पांचवी कड़ी का | 


    अदब सराय के संस्थापक अध्यक्ष शाइर *क़ासिम बीकानेरी* ने बताया कि इस बार अदब सराय का मुशाएरा मेरठ के मोअ़तबर शाइर *डॉ. कृष्ण कुमार बेदिल* के सम्मान में रखा गया | जिसमें देश के एक से बढ़कर एक बेहतरीन शाइरों और शाइरात ने हिस्सा लिया और अपने बेहतरीन कलाम से मुशाएरे को कामयाब बनाया | मुशाएरे के मुख्य अतिथि अब्दुल सलाम मुज़्तर ने डॉ. बेदिल की ता'रीफ़ में यह क़ितअ़ पेश करके उन्हें अपनी मुबारकबाद पेश की -


*जन्मदिन की ख़ुशियां मुबारक हो बेदिल*


*रहे दूर रंजो-मुसीबत के साए* 


*गुज़ार आए बेदिल सतत्तर बहारें* *ख़ुदा सौ से जा़ईद बहारें दिखाएं*


    कार्यक्रम के अध्यक्ष *डॉ. कृष्ण कुमार 'बेदिल'* ने भाव विभोर होते हुए कहा कि अदब-सराय ने उनके सम्मान में मुशाएरा रखकर उन्हें जो इज़्ज़त बख़्शी है उसके लिए वे हमेशा अदब-सराय के शुक्रगुज़ार रहेंगे | संस्था अदब के क्षेत्र में और ख़ास तौर से ग़ज़ल विधा में बेहतरीन कार्य कर रही है |



 इस अवसर पर *डॉ. कृष्ण कुमार बेदिल* ने अपनी उम्दा शाइरी से सब को लुत्फ़अंदोज़ कर दिया | आपके इस मतलअ़ और शे'र को भरपूर पसंद किया गया -


*हर तरफ एक तीरगी है क्या लिखूँ कैसे लिखूँ*


*क़ैद में अब रोशनी है क्या लिखूँ कैसे लिखूं।*


*उड़ गयी फूलों से ख़ुशबू,रंग फीके पड़ गए,*


*हर तरफ वीरानगी है,क्या लिखूँ कैसे लिखूँ।*


आपकी ग़ज़ल रदीफ़ पर कही ग़ज़ल के इन शे'रों पर भी भरपूर दाद मिली-


*ज़िहन के कोने से जब, आवाज़ देती है ग़ज़ल।*


*गीत बनतीं धड़कनें और साज़ देती है ग़ज़ल।*


*पांव हैं मेरे ज़मीं पर, आसमानों पर नज़र,*


*पर भी देती है मुझे, परवाज़ देती है ग़ज़ल।*


 मुशाएरे के विशिष्ट अतिथि आगरा के नौजवान शाइर *भरतदीप माथुर* ने अपनी एक से बढ़कर एक ग़ज़लें प्रस्तुत करके मुशाएरे को परवान चढ़ाया -


*मैं ज़रीना तो क्या ज़रतार नहीं दे सकता*


*जान ले लीजिए किरदार नहीं दे सकता*


*ऐसी मिट्टी की तो मिट्टी की ख़राबी तय है*


*कूज़ागर तू जिसे आकार नहीं दे सकता*


आपके कलाम में हालाते-हाज़िरा की बेहतरी अक्कासी नज़र आई -


*उजाला जानते हो तुम कहाँ ठहरा हुआ है*


*मुहाने पर तुम्हारी सोच के अटका हुआ है*


*हवा ख़ामोश शाख़ें बरहना मुर्झाई कलियाँ*


*चमन का गोशा-गोशा किस क़दर सहमा हुआ है*


मुशाएरे का आग़ाज़ रांची की शाइरा और संस्था सचिव *रेणु त्रिवेदी मिश्रा* ने ना'त शरीफ़ से करके अपनी अक़ीदत का यूं इज़हार किया -


*या मुहम्मद गर तुम्हारी हो रज़ा*


*देख लूँ मैं भी मदीने की सबा*


*शुक्रिया तेरा मेहरबानी तेरी*


*जो मिला मुझको तुम्हारी है अ़ता*


संस्था अध्यक्ष शाइर *क़ासिम बीकानेरी* की ग़ज़ल ने आज के दौर की हक़ीक़तों को सामने रखा | इन अशआ़र को भरपूर सराहना मिली-


*ये कैसा दौर है अहदे-वफ़ा कोई नहीं करता*


*हक़ीक़त है यही पर सामना कोई नहीं करता*


*ग़रीब हो जाएं गर नाराज़ तो परवाह नहीं करते*


*जो दौलतमंद हैं उनको ख़फ़ा कोई नहीं करता*


अजमेर की शाइरा *डॉ. ज़ेबा फ़िज़ा* ने मुशाइरे में नया रंग भरा | आपके कलाम को श्रोताओं ने ख़ूब पसंद किया और बार-बार पढ़ने की फ़रमाइश की -


*ज़िंदगी जीने की देता है हिदायत आज भी*


*इसलिए क़ुरआं की करती हूं तिलावत आज भी*


*जो भी मेरे घर में हैं वो सब ख़ुदा का फ़ज़्ल ह*ै 


*घर के दरवाजे पे लिखी है इबारत आज भी*


झांसी के बेहतरीन शाइर *अब्दुल जब्बार 'शारिब'* ने अपनी ग़ज़ल के बेहतरीन प्रस्तुतीकरण से माहौल को ग़ज़ल की ख़ुश्बू से सराबोर करते हुए श्रोताओं की भरपूर दाद लूटी -


*ये कैसा है मौसम ये ख़िज़ां आई है कैसी*


*अफ़सुरदा सभी गुल हैं चमन कांप रहा है*


*इज़हारे तख़्ययुल पे हैं पाबंदियां जब से*


*हर एहले-ज़बाँ, एहले-सुख़न कांप रहा है*


 मेहंदी नगर सोजत के वरिष्ठ शायर *अब्दुल समद 'राही'* ने अपनी ग़ज़ल की महक से माहौल को महका दिया | सभी ने आप की ग़ज़ल की दिल खोलकर ता'रीफ़ की -


*हुनर मैंने भी सीखा है सितम उसके उठाने का* 


*हुनर उसने भी सीखा है मुझे हरदम सताने का*


*मुझे जिस दिन से सबके सामने तुमने कहा अपना*


*नहीं उस दिन से मेरे दिल में कुछ भी डर ज़माने का* 


संस्था की वरिष्ठ उपाध्यक्ष मेरठ की शाइरा *डॉ. यासमीन मूमल* की ग़ज़ल ने मुशाएरा को परवान चढ़ाया -


*गुफ़्तगू जो हुई वस्ल की रात में।*


*उसको कैसे मैं अपनी ज़ुबानी लिखूँ।।*


*डूब जाने का दिल मेरा जब भी करे।*


*ख़ुद को कश्ती लिखूँ तुमको पानी लिखूँ।।*


संस्था उपाध्यक्ष दतिया के नौजवान शाइर *दिलशेर 'दिल'* ने अपनी मुरस्सा ग़ज़ल से आज के दौर की सच्चाई को सामने लाते हुए भरपूर दाद पाई -


*क्या मिलेगा तुमको बोलो, नफरतो तक़रार से।*


*जीत लो दुनिया को यारो, अम्न से और प्यार से।।*


*रात भर मैं सो न पाया, करवटें लेता रहा,*


*इतना डर जाता हूँ मैं तो, सुब्ह के अख़बार से।।*


जोधपुर के नये लबो-लहजे के नौजवान शाइर *फ़ानी जोधपुरी* ने अपनी लाजवाब ग़ज़लें सुनाकर मुशाएरे में नई रंगत भरी | आपके कलाम को ख़ूब ख़ूब ता'रीफ़ मिली -


*किसने चाहा आँख में दरिया,क़तरा भर ही काफ़ी है*


*या'नी इस दरबार के अन्दर इक फ़रियादी काफ़ी है*


*उसकी यादें,मेरा कमरा,तन्हाई और काली रात*


*कल तक ज़िन्दा रहने को इतनी तैयारी काफ़ी है*


वरिष्ठ शाइर *किशन स्वरूप* ने अपनी ग़ज़ल में गांव छोड़कर शहर जाने वाले इंसान का दर्द बख़ूबी बयान किया -


*नतीजा छोड़ने का गांव कुछ अच्छा नहीं निकला*


*नगर की भीड़ में कोई यहां अपना नहीं निकला* 


*ज़रा सी बात थी न वो राज़ी न मैं राज़ी*


*रज़ामंदी का आपस में कोई रस्ता नहीं निकला*


मेरठ के वरिष्ठ शायर *शाहिद मिर्जा 'शाहिद'* ने अपनी बेहतरीन ग़ज़ल से ख़ूब वाहवाही लूटी -


*दर्द के पर्वत से अश्कों की नदी को* 


*मैं बहाने का बहाना चाहता हूं*


*चांद से अनबन ज़रा सी हो गई है*


*घर सितारों से सजाना चाहता हूं*


कानपुर के नौजवान शाइर *इमरान कानपुरी* की ग़ज़लों को भी ख़ूब सराहना मिली -


*जिसकी गहराईयां न हो मा'लूम*


*ऐसे दरिया को पार मत करना*


*बेच कर अपना दीन और ईमान*


*ख़ुद को तुम शर्मसार मत करना*


*अजय रस्तोगी 'अविरल'* की ग़ज़ल में इंसानियत का रंग नज़र आया जिसे ख़ूब सराहा गया -


*मेरी तक़दीर भी मुझसे कभी कुछ रूठ जाती है*


*हमारे नाम की मेहंदी भी जल्दी छूट जाती है*


*मेरी बस्ती की ये तहज़ीब अच्छी है हवेली से*


*पड़ोसी को ज़रूरत हो तो गुल्लक टूट जाती है* . अहमदाबाद के शाइर कुमार अहमदाबादी की नये अंदाज़ की ग़ज़ल को भी भरपूर पसंद किया गया - *मुस्कुराना इक हुनर है दोस्तों*


*ये हुनर सब को सिखाना चाहिए*


*हुस्न से दरखास्त है तू क़त्ल कर*


*प्यार हम को क़ातिलाना चाहिये*


कार्यक्रम में अदब सराय की तरफ से डॉ.कृष्ण कुमार बेदिल को सम्मानित किया गया | सम्मान पत्र का वाचन क़ासिम बीकानेरी ने किया | डॉ. बेदिल का परिचय डॉ. यासमीन मूमल ने प्रस्तुत किया | अंत में सब का आभार दिलशेर 'दिल' ने ज्ञापित किया | मुशाएरे का सफल संचालन क़ासिम बीकानेरी ने किया | मुशाएरे में कोटा के जी.डी. मेहरा सहित अनेक सामइन मौजूद थे, जिन्होंने शाइरों की भरपूर हौसलाअफ़ज़ाई की |



Popular posts
इंसानियत का पाठ पढ़ो तो देश भक्ति सीख जाओगे – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
भारत में स्काउट गाइड के जनक पं.श्रीराम बाजपेयी हमारे आदर्श-कुलदीप सिंह
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image