दिल्ली में पकड़ी गई नकली टाटा नमक की फैक्ट्री, 10 हजार किलो बेच भी दिए,हूबहू असली पैकेजिंग और QR कोड बनाकर बाजर में उतारा था


 


पिछले 4 महीने से दिल्ली समेत पूरा देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है, लेकिन इस बीच फर्जीवाड़ा करने वाले अपने फर्जीवाड़े से बाज नहीं आ रहे. राजधानी में नकली टाटा नमक बनाने वाली फैक्ट्री का भांडाफोड़ हुआ है और वहां से करीब 3 हजार किलो नकली नमक के साथ-साथ मशीन भी बरामद हुई है.


लॉकडाउन के दौर में जब लोग घरों में रहने को मजबूर थे तो इस दौरान फर्जीवाड़ा करने वाले करीब 10 हजार किलो नकली टाटा नमक दिल्ली में बेच चुके थे. बरामद नकली पैकेट को देखकर पहचान कर पाना मुश्किल है कि असली कौन और नकली कौन.


छापेमारी में नकली चीजें बरामद


दिल्ली के शाहबाद डेरी इलाके की दुकानों में छापेमारी कर नकली टाटा नमक की एक खेप बरामद की गई. जिसके बाद कंझावला में भी फैक्ट्री पर छापा मार बाकी बचे नकली टाटा नमक बरामद किया गया.


नकली टाटा नमक बेचने के मुख्य आरोपी सुरलजम सिंघल समेत दो आरोपी गिरफ्तार कर लिया गया है. आउटर नार्थ जिले की DIU युनिट ने यह नकली टाटा नमक बरामद किया.


फैक्ट्री में बनाया जा रहा नकली टाटा नमक


लॉकडाउन के दौरान पिछले 2 महीने में अब तक करीब 10 हजार किलो नकली टाटा नमक बाजार में बेचा जा चुका है. टाटा नमक कंपनी की शिकायत पर दिल्ली पुलिस हरकत में आई और छापा मारा. दिल्ली पुलिस ने छापेमारी में 3000 किलो नकली टाटा नमक बरामद किया.


सप्लाई कम होने पर टाटा नमक को हुआ शक


लाकडाउन में एक टैक्सी ड्राइवर की आर्थिक हालत खराब हो गई तो उसने नकली टाटा नमक की फैक्ट्री ही खोल डाली. इस फैक्ट्री में बड़ी सफाई से नकली टाटा नमक को असली रूप में तैयार किया जाता था.


नकली टाटा नमक में हुबहू असली टाटा नमक जैसी पैकेजिंग और QR कोड छापकर लॉकडाउन में बेचा जा रहा था.


पुलिस के मुताबिक टाटा कंपनी को लॉकडाउन के दौरान शक हुआ कि उनके प्रोडक्ट की दिल्ली में खपत हाल में कम हो रही है, तब नमक के कुछ सैंपल्स को चेक किया गया तो चेकिंग में खुलासा हुआ कि नकली टाटा नमक हूबहू असली पैकेजिंग और QR कोड बनाकर बाजर में बेचा जा रहा है.


टाटा कंपनी ने असली पैकेजिंग और नकली पैकेजिंग की पहचान करनी शुरू की तो पाया कि आरोपियों ने हूबहू पैकेजिंग तो की ही थी, नकल के पैकेट पर बने फोटो भी हूबहू छाप रखे थे. लेकिन जैसे ही नकली QR कोड को स्कैन किया गया तो माजरा साफ हो गया, क्योंकि नकली QR कोड गूगल पर एरर दिखा रहा था.


जबकि असली QR कोड सीधे टाटा कंपनी की बेवसाइट पर ले जा रहा था, जिसके बाद दिल्ली पुलिस को शिकायत दी गई और तब जाकर पुलिस ने कार्रवाई की.


दिल्ली पुलिस ने छापेमारी के दौरान पूरी की पूरी फैक्ट्री पकड़ी जिसमें पैकेजिंग से लेकर कंपनी का फर्जी स्टिकर वगैरह सब लगाया जा रहा था.


Popular posts
284 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह का डायरेक्टर गिरफ्तार
Image
UNCRC की 31 वी वर्षगांठ पर साप्ताहिक कार्यक्रम का हुआ शुभारम्भ
Image
छात्रा शिवांगी शुक्ला को एक दिवस का थानाध्यक्ष बनाया गया, दो महिलाओं की शिकायत का किया निस्तारण
Image
सवा किलो गांजे के साथ एक अभियुक्त को पुरानी बस्ती पुलिस ने पकड़ा,मुक़दमा दर्ज
Image
संस्थान में चल रहे प्रशिक्षण में प्रतिभागियों को सम्बोधित करते हुएआपदा प्रबंधन में प्रशिक्षित स्काउट गाइड मेम्बर स्थानीय प्रशासन के सहयोग से साबित करेंगे अपनी उपयोगिता-प्रादेशिक प्रशिक्षण आयुक्त