भला अपने परिवेश का चित्र मैं तुमको दिखाऊं कैसे -- तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


भला अपने परिवेश का चित्र मैं तुमको दिखाऊं कैसे ! 


घर से बाहर क़दम रखते ही प्रदूषण से सामना होता है !! 


*************************


अपने आंगन में लगाया है हमने एक तुलसी का पौधा ! 


हमें मालूम है तुलसी के पत्ते में भी नुस्खा है ज़िंदगी का !! 


*************************


जिनके कारखानों से शहर में प्रदूषण का इज़ाफा हुआ है ! 


प्रदूषण के निवारण का दावा कर रहे हैं चिल्ला चिल्ला कर वो !! 


*************************


बनावटी दुनिया में ऐशो आराम व श्रृंगार के साधन जुटाकर ! 


मुमकिन है तुम्हें कभी सुख शांति का एहसास हो दिल से !! 


*************************


भौतिकवाद का नशा इस कदर हावी है हमारे मुल्क में ! 


हवा पानी भी प्रदूषित हो गया हमारी नाजायज़ शौक में !! 


*************************


हमारे दोस्तों में बहस छिड़ी रहती है हमेशा इस बात की ! 


अपने घर के आंगन को हवादार महकदार बनाएं कैसे !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बस्ती जनपद का स्थापना दिवस मनाया गया, एमएलसी सुभाष यदुवंश ने काटा केक,हुई भव्य आरती, कवि सम्मेलन,
Image
वाजा इंडिया" की नई कार्यकारिणी घोषित,वरिष्ठ पत्रकार पी. बी. वर्मा अध्यक्ष,शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी महासचिव बने
Image
डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन नेशनल बिल्डर इनोवेटिव टीचर अवार्ड से अलंकृत हुये आर्टिस्ट चंद्रपाल राजभर
Image