ज़रूरी तो नहीं कि हर ख़्वाब मेरा हक़ीक़त में बदले -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


यूं तो बहुत से लोग देखा करते हैं ख़्वाब मगर ! 


मर्द वही हैं जो ख़्वाबों को हक़ीक़त में बदल दें !! 


************************


कौन कहता है कि ख़्वाब देखना अच्छा नहीं !  


ख़्वाबों से ही तो दुनिया में तरक्की है इतनी !! 


*************************


सारे गिले शिकवे भूल जाऊंगा मैं शर्त है लेकिन ! 


तुम ख़्वाब में ही सही मगर मिला करो हमसे !! 


*************************


हमें तो ज़िंदगी की दुश्वारियों का ठीक से अंदाज़ा है ! 


कुंवारी कन्या के ख़्वाब में बसने वाला शहजादा तो नहीं मैं !!


*************************


यह तो सच है कि कोई ख़्वाब देखता हूं मैं हर दिन ! 


ज़रूरी तो नहीं कि हर ख़्वाब मेरा हक़ीक़त में बदले !! 


*************************


तुम्हें तो लगता है कि मैं मामूली ख़्वाब देख रहा हूं ! 


मेरी आंखों में पले ख़्वाब की कीमत तुझे क्या मालूम !! 


************* तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !


Popular posts
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image
नेहरू युवा केंद्र द्वारा ब्लॉक स्तरीय खेल प्रतियोगिता का हुआ आयोजन
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
करनपुर गांव में अपर मुख्य सचिव अमित मोहन, मुख्य विकास अधिकारी सरनीत कौर ब्रोका, हर्र्रैया के उप जिलाधिकारी प्रेम प्रकाश मीणा आदि ने पौधरोपण किया
Image