स्वामी प्रसाद मौर्य ने श्रमिकों के बारे में बयान देने पर विपक्षी दलों पर करारा हमला बोला,कहा कांग्रेस, सपा तथा बसपा श्रमिकों के सबसे बड़े दुश्मन


कोरोना वायरस के संक्रमण में लॉकडाउन के दौरान अन्य राज्यों के श्रमिकों को उत्तर प्रदेश वापस लाने और उनके लिए रोजगार के अवसर बनाने में लगी योगी आदित्यनाथ सरकार के मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने श्रमिकों के बारे में बयान देने पर विपक्षी दलों पर करारा हमला बोला है। प्रदेश के श्रम मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहा कि कांग्रेस, सपा तथा बसपा श्रमिकों के सबसे बड़े दुश्मन हैं। स्वामी प्रसाद मौर्य ने साफ कहा कि यह दल नहीं चाहते हैकि प्रवासी श्रमिकों को उत्तर प्रदेश में काम मिले। इसी कारण यह लोग श्रमिकों को इस संकट की घड़ी में भी भड़काने का काम कर रहे हैं। यह दल उन श्रमिकों का विरोध कर रहे हैं, जिनके लिए निवेश के माध्यम से रोजगार तलाशने की प्रक्रिया चल रही है। मौर्य ने कहा कि श्रमिकों को लेकर कांग्रेस और समाजवादी पार्टी का बयान यह दर्शाता है कि वह लोग श्रमिकों के सबसे बड़े दुश्मन हैं।प्रदेश में श्रम अधिनियमों में जो संशोधन अध्यादेश आया है, वह प्रदेश के साथ ही प्रवासी श्रमिकों के हितों की रक्षा करने के लिए है। इस समय मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अन्य प्रदेशों में रह रहे सभी प्रवासी कामगारों व श्रमिकों को उत्तर प्रदेश में वापस लाने का निर्णय लिया। उन्होंने कहा कि यह भी भी संकल्प लिया गया कि हम उत्तर प्रदेश में ही इनको (श्रमिकों को) सेवा में नियोजित भी करेंगे, जो जिस योग्य कामगार है, उसे उसके लायक काम यहीं पर दिलाने की हम व्यवस्था करेंगे।स्वामी प्रसाद मौर्य ने कहाकि यह दल उन श्रमिकों का विरोध कर रहे हैं, जिनको हम लॉकडाउन के चलते बंद उद्योग- कारखानों में पुन: समायोजित करने के लिए अवसर प्रदान करने जा रहे हैं। कांग्रेस और सपा के बयान से उनका श्रमिक विरोधी चेहरा सामने आया है। उनको मैं भी स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि जो श्रमिकों के लिए घडिय़ाली आंसू बहा रहे हैं उनको शायद नहीं पता कि हमने नये निवेश के रास्ते खोलते वक्त श्रमिकों के हितों का ध्यान रखा है।उन्होंने कांग्रेस और सपा पर तंज किया कि वे पहले अध्यादेश को पढें, फिर किसी तरह की टिप्पणी करें। अब तो उनकी टिप्पणी से आभास हो गया है कि वह सभी श्रमिकों के नंबर एक दुश्मन हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि दोनों दल नहीं चाहते कि श्रमिकों को काम मिले इसलिए अनाप शनाप बयानबाजी कर रहे हैं। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने ट्वीट कर कहा है कि उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार ने एक अध्यादेश से मजदूरों को शोषण से बचाने वाले श्रम-कानून के अधिकांश प्रावधानों को तीन वर्ष के लिए स्थगित कर दिया है। यह बेहद आपत्तिजनक व अमानवीय है। श्रमिकों को संरक्षण न दे पाने वाली गरीब विरोधी भाजपा सरकार को तुरंत त्यागपत्र दे देना चाहिए।कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने भी ट्वीट कर कहाकि यूपी सरकार के श्रम कानूनों में बदलावों को तुरंत रद्द किया जाना चाहिए। आप मजदूरों की मदद करने के लिए तैयार नहीं हो। आप उनके परिवार को कोई सुरक्षा कवच नहीं दे रहे हो। अब आप उनके अधिकारों को कुचलने के लिए कानून बना रहे हो। मजदूर तो देश निर्माता हैं, आपके बंधक नहीं हैं।