मंडलायुक्त एव जिलाधिकारी ने कैली अस्पताल मे कोविद 19 के लिए तैयारियां जांची

बस्ती 26 मई 2020,सू.वि., मण्डलायुक्त अनिल कुमार सागर ने कोविड-19 के ईलाज के दृष्टिकोण से स्थापित सभी व्यवस्थाओं का माकड्रिल कराने के लिए निर्देश दिया है। उन्होने ओपेक कैली अस्पताल में स्थापित कोविड-19 के क्रिटिकल केयर यूनिट, डायलीसिस रूम, लेबर रूम, आर्थो ओटी, पोस्ट आपरेटिव आईसीयू, काम्पलेक्स ओटी, आॅख का ओटी का निरीक्षण किया।


उन्होने कहा कि यहाॅ तैनात सभी स्टाफ को उनके कार्यो का कोरोना वायरस के दृष्टिकोण से पूरा प्रशिक्षण कराया गया है। फिर भी यह आवश्यक है कि सभी स्टाफ एक बार माकड्रिल अवश्य कर ले। इलाज के दौरान उपयोग होने वाले सभी मशीनो को चलाकर देख लें।


क्रिटिकल केयर यूनिट में प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराये गये 06 वेन्टीलेटर लगाये गये है। मण्डलायुक्त ने बेड संख्या 05 पर स्थापित वेन्टीलेटर को संचालित करवा कर देखा, शुरू में स्टाफ इसे ठीक से नही चला पा रहे थे, परन्तु बाद में उन्होने इसको पूरी तरह चलाया और इसके फ्क्सन्स के बारे में बताया। उन्होने बताया कि एक पाईप से मरीज आक्सीजन लेगा और दूसरी पाईप से उसके अन्दर से वायरस निकल कर मशीन में चला जायेंगा।


मण्डलायुक्त ने कहा कि प्रशासन द्वारा उपलब्ध कराये गये सभी 09 बेन्टीलेटर के अलावा 05 अन्य वेन्टीलेटर शीघ्र स्थापित करा दे। प्रधानाचार्य डाॅ0 नवनीत कुमार ने बताया कि 12 वेन्टीलेटर की डिमांड शासन को भेजी गयी है। मण्डलायुक्त ने नर्सिंग हास्टल का भी निरीक्षण किया जहाॅ पर डियूटी पर तैनात कर्मचारी कोरोन्टाईन में रखे जाते है। उन्होने वहाॅ पर कामन रूम में टेलीवीजन सेट, फ्रीज, माइक्रो ओवन लगाने का भी निर्देश दिया।


मण्डलायुक्त ने कोविड-19 से ग्रसित वार्ड तक मरीज एवं डियूटी पर तैनात स्टाफ के आने-जाने के लिए अलग-अलग रास्ते का उपयोग करने पर बल दिया। सीएमएस डाॅ0 जीएम शुक्ला ने बताया कि सम्भावित मरीज आने पर उसे होल्डिग एरिया में ले जाते है, वहाॅ पर जाॅच में रिपोर्ट पाॅजिटिव पाये जाने पर वार्ड में सिफ्ट किया जाता है। दोनों के लिए अलग-अलग रास्ते का उपयोग किया जाता है।


मण्डलायुक्त ने कोरोना मरीज राहुल से बातचीत किया। राहुल ने बताया कि वह 03 पहले ही वार्ड में आया है। वह बम्बई से यहाॅ पर आया है। मण्डलायुक्त के पूछने पर उसने बताया कि उसका समुचित ईलाज हो रहा है। उसको किसी प्रकार की कोई दिक्कत नही है। निरीक्षण के दौरान मण्डलायुक्त ने पाया कि यहाॅ पर कोरोना वायरस के 40 मरीज रखें गये है। होल्डिंग एरिया में भी 06 व्यक्ति है, जिनका सैम्पल जाॅच के लिए गोरखपुर मेडिकल कालेज भेजा गया है।


मण्डलायुक्त ने निर्देश दिया है कि मेडिकल कालेज गोरखपुर से वार्ता कर यह सुनिश्चित कराये कि 24 घण्टे के भीतर होल्डिंग एरिया में रखे गये व्यक्तियों की जाॅच रिपोर्ट अवश्य आ जाये।


निरीक्षण के दौरान जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन, प्रधानाचार्य डाॅ0 नवनीत कुमार, सीएमएस डाॅ0 जीएम शुक्ला, सीएमओ डाॅ0 जेपी त्रिपाठी, डाॅ0 सोमेश श्रीवास्तव, डाॅ0 अनिल यादव उपस्थित रहे।