जिले में फंसे दिल्ली, मुम्बई के मरीजों को भी मिल रही है टीबी व एचआई वी की दवाएं,मरीजों को सिर्फ रजिस्ट्रेशन कार्ड ही दिखाना है


बस्तीः लॉकडाउन के कारण ज़िले में फंसे दिल्ली व मुम्बई के टीबी और एचआईवी के मरीजों को भी दवा मुहैया कराई जा रही है। इसके लिये मरीजों को रजिस्ट्रेशन कार्ड और पर्चा दिखाना होगा। स्वास्थ्य विभाग की ओर से यह व्यवस्था इसलिए की गई है, ताकि किसी मरीज़ की दवा बीच में छूटने न पाए। लॉकडाउन के कारण ज़िले में फंसे लोगों में ऐसे लोग भी शामिल हैं, जिनकी टीबी व एचआईवी की दवा चल रही है। इसमें दिल्ली, मुम्बई तक के एक दर्जन से ज़्यादा लोग शामिल हैं। शासन की ओर से ऐसे लोगों को स्थानीय स्तर पर दवा उपलब्ध कराए जाने को निर्देशित किया गया है।


डीटीओ( डिस्ट्रिक्ट ट्यूबरक्लोसिस ऑफिसर) डॉ. सीएल कन्नौजिया ने बताया की लॉकडाउन के दौरान बाहर के कई मरीज़ों ने टीबी क्लिनिक से सम्पर्क कर दवा की मांग की। उनके पर्चे आदि देखकर दवा उपलब्ध करा दी गई है। देश के किसी भी हिस्से का मरीज़ अगर दवा लेने आता है तो उसे दवा दी जाएगी। बाहर से आने वाले एचआईवी मरीज़ों के लिए भी दवा की व्यवस्था कराई जा रही है। ज़िला अस्पताल में संचालित एआरटी सेंटर से उन्हें दवाएं मुहैया कराई जा रही है। एआरटी सेंटर के नोडल डॉ. रामजी सोनी ने बताया की लॉकडाउन में फंसे ऐसे लोग जिनकी दवा खत्म हो जा रही है, उन्हें यहीं से दवा दिलवाई जा रही है।


लॉकडाउन में बुजुर्ग और बच्चे रखें इन बातों का ख्याल
- हर समय घर पर ही रहें, बाहरी व्यक्ति घर पर न आने पाएं।
- यदि किसी से मुलाकात करना बहुत ही जरूरी हो तो एक मीटर की दूरी बनाये रखें
- किसी भी छोटे या बड़े आयोजन से बचें
- घर पर चलते-फिरते रहें
- घर पर हल्का-फुल्का व्यायाम और योगा करें
- हाथों को बार-बार साबुन और पानी से 20 सेकण्ड तक धोएं, खासकर खाने से पहले और शौच के बाद
- घर के ज्यादा इस्तेमाल होने वाले सामानों की सफाई (सेनेटाइज) करते रहें
- खांसते या छींकते समय टिश्यू पेपर या रुमाल का इस्तेमाल करें और टिश्यू पेपर को बंद कूड़ेदान में ही फेंके
- घर पर बना ताजा और गर्म खाना खाएं, बार-बार पानी पीते रहें, प्रतिरोधक क्षमता बढाने के लिए फलों का जूस लें।ं
- अगर पहले से किसी बीमारी की दवा ले रहे हैं तो उसे जारी रखें
- स्वास्थ्य का ख्याल रखें और कोई दिक्कत आये तो चिकित्सक से संपर्क करें
- परिवार के सदस्य अगर साथ नहीं रहते तो फोन पर उनसे संपर्क में रहें, वीडियो काल भी करें।
- गर्मी को देखते हुए शरीर में पानी की कमी न होने पाए


यह न करें
- ऐसे लोगों से दूरी बनाये रखें जिनमें कोरोना के लक्षण नजर आयें जैसे-बुखार, खांसी और छींक आ रही हो
- किसी से भी हाथ न मिलाएं और न गले मिलें
- भीडभाड वाले स्थानों जैसे बाजार,पार्क या धार्मिक स्थलों पर जाने से बचें
- हाथ पर न छींकें
- आंख, नाक और मुंह को न छुएं
- अपने आप से कोई दवा न लें
- रूटीन चेकअप के लिए अस्पताल न जाकर फोन पर चिकित्सक से सलाह लें
- किसी को भी घर पर आमंत्रित न करें