इस डाकू के नाम से कापती थी पुलिस और जनता,550 केस, 400 मर्डर, 650 अपहरण दर्ज थे,60 के दशक में चंबल की धरती हुई थी खून से लाल


चंबल का इलाका डाकूओं के लिए जाना जाता है. चंबल घाटी से कई ऐसे डाकू निकले, जिन्होंने पुलिस और जनता के नाक में दम कर दिया था. लेकिन कुछ डाकू ऐसे भी थे, जो भले ही कानून की नजर से बड़े मुजरिम थे, मगर स्थानीय लोगों के लिए वो किसी मसीहा से कम नहीं थे. पुलिस उनके नाम से कांपती थी, लेकिन ग्रामीण उन्हें सिर-आंखों पर बैठाते थे. ऐसा ही एक नाम था डाकू मोहर सिंह. जिसके नाम का आतंक इतना था कि पुलिस के साथ-साथ इलाके के अपराधी भी उससे खौफ खाते थे. उसी मोहर सिंह का मंगलवार को निधन हो गया.
कौन था डाकू मोहर सिंह
चंबल घाटी के लिए मोहर सिंह का नाम किसी खौफ से कम नहीं था. कुछ लोग उसे रॉबिनहुड मानते थे. सरेंडर करने के बाद वो लंबे समय से बीमार थे. मंगलवार को मोहर सिंह ने आखरी सांस ली. आखिर मोहर सिंह डाकू कैसे बने, आइये आपको बताते हैं...


वो साल 1960 था. जब मोहर सिंह ने बंदूक उठाई और बीहड़ में कूद पड़े. बताया जाता है कि मोहर सिंह कभी डाकू बनना नहीं चाहते थे. लेकिन एक जमीन से जुड़े मामले में जब वो दर-दर की ठोकरें खाते रहे. अफसरों से और पुलिस से गुहार लगाते रहे लेकिन उन्हें इंसाफ नहीं मिला. सिस्टम से नाराज होकर मोहर सिंह ने साल 1960 में बंदूक उठा ली. कुछ ही महीनों में मोहर सिंह का नाम चंबल घाटी में गूंजने लगा. हर तरफ मोहर सिंह के नाम का आतंक था.
हाल ये था कि इलाके की पुलिस भी उनके नाम से थर्रा जाती थी. उस वक्त ये कहावत मशहूर थी कि जब कोई बच्चा रोता है, उसकी मां कहती थी, सो जाओ नहीं तो मोहर सिंह आ जाएगा. उस डर और खौफ को शोले फिल्म में गब्बर के नाम से दर्शाया भी गया. डाकू मोहर सिंह ने 12 सालों तक बीहड़ों में राज किया. लेकिन साल 1972 में उन्होंने सरकार के सामने सरेंडर कर दिया था. उस वक्त उनके गैंग पर 12 लाख रुपये का इनाम था. यहां तक कि अकेले डाकू मोहर सिंह पर 2 लाख रुपये का इनाम था.
समाज सेवा और पर्यावरण संरक्षण
समर्पण करने के बाद मोहर सिंह की जिंदगी पूरी तरह बदल गई थी. वह सामाजिक कार्यों में जुट गए थे. गरीब लड़कियों की शादी कराना, जरूरतमंदों की मदद करना उनकी दिनचर्या का हिस्सा बन गया था. वो गांव में अपने परिवार के साथ खेती-बाड़ी का काम करते थे. साथ ही पूर्व दस्यु मोहर सिंह ने जमीन बचाने के लिए अभियान चलाया था. उन्होंने हरियाली को खूब बढ़ावा दिया. उनका मकसद था कि खेती की जमीन को बचाया जाए. पेड़-पौधे ज्यादा से ज्यादा लगाए जाएं. आखरी दम तक वो लोगों के काम आते रहे.
मुकदमे, आरोप और सजा
बीहड़ में डाकू मोहर सिंह ने कई बरस राज किया. उनके खिलाफ पांच सौ पचास मुकदमे दर्ज थे. मोहर सिंह पर 400 लोगों की हत्या का आरोप था. जबकि उन पर 650 अपहरण की वारदातों को अंजाम देने का इल्जाम भी था. हालांकि उन्हें कभी अपने किए पर कोई पछतावा नहीं था. अपने किए गुनाहों की सजा उन्हें 8 साल कारावास के रूप में मिली. सरेंडर करने के बाद मोहर सिंह मंदिर में काफी वक्त बिताते थे. भजन-कीर्तन करते थे. गांव में कोई भी आयोजन हो, मोहर सिंह वहां जरूर जाते थे. और तो और 1982 में एक बॉलीवुड फिल्म 'चंबल के डाकू' में मोहर सिंह ने अभिनय भी किया था.
खुद किया था पत्नी और बेटी का कत्ल
मोहर के गुनाहों की एक लंबी कहानी है, लेकिन एक मामला ऐसा था जो लोगों को हैरान करता रहा. वो था मोहर सिंह की पत्नी और बेटी का कत्ल. जिसे खुद डाकू मोहर सिंह ने अंजाम दिया था. बताया जाता है कि साल 2006 में मोहर सिंह को अपहरण के एक मामले में जेल हो गई थी. लेकिन जब वह जून 2012 में सजा काटकर वापस आया तो उसने अपनी पत्नी और 15 साल की बेटी को मारकर उनकी लाशें सिंध नदी में बहा दी थी.


कत्ल की वजह का खुलासा करते हुए मोहर सिंह ने पुलिस को बताया था कि उसे अपनी पत्नी और बेटी के चरित्र पर शक था. पूछताछ में उसने अपना गुनाह कुबूल कर लिया था. पुलिस ने सिंध नदी में उसकी पत्नी और बेटी का लाश तलाश करने की कोशिश की थी, लेकिन वहां कुछ नहीं मिला था.


Popular posts
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
औरों को सुख पहुंचाने से बेहतर कोई काम नहीं -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
अपनी कविताओं में आम आदमी का दर्द बयां कर दो तुम -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
सुर मलिका डॉ शहनाज खान सहित कई हस्तियों को नेशनल अमेरिकन यूनिवर्सिटी यू .एस.ए.ने "डॉक्टर ऑफ लिटरेचर इन म्यूजिक " डि. लिट की उपाधि से किया सम्मानित ..
Image
भावना शर्मा को दिल्ली ओलंपिक खेलों में रैफ्री के लिए आमंत्रण
Image