अब कोरोना के साथ ही जीना पड़ेगा,बदल जाएगी ये सात अहम चीजे,हो जाएंगे हम कोरोना के आदी


कोरोना महामारी से हमारी लाइफस्टाइल काफी हद तक प्रभावित हुई है। हालाकिं सभी के लिए ये महामारी एक आफत की तरह सामने आई है लेकिन इसने हमारी लाइफस्टाइल पर एक पॉजिटिव इम्पैक्ट डाला है। अगर कल को कोरोना खत्म भी हो जाता है तो भी हमें बहुत से बदलाव देखने को मिलेंगे और लोगों को बहुत सी आदतों को बनाए रखना होगा।


मेडिकल क्षेत्र होगा बेहतर सरकार जितना रक्षा पर खर्च करती है, उतना ही अब हेल्थ पर भी करना जरूरी होगा। अब सरकार की सबसे पहली प्राथमिकता लोगों का स्वास्थ्य ही होगा। वहीं देश में, डॉक्टरों और नर्सों की संख्या बढ़ाने और उन्हें प्रशिक्षण देने पर भी ज़ोर होगा।


मेडिकल क्षेत्र में भारत अभी कई देशों से पीछे है। अब मेडिकल क्षेत्र में करियर के बेहतर विकल्प सामने आएंगे। दवाओं और ज़रूरी मेडिकल उपकरणों का उत्पादन देश में करने जैसे कई बदलावों की उम्मीद की जा रही है।


लाइफस्टाइल बदलेगा लोगों की जीवन शैली में बदलाव दिखने लगा है। लोग अच्छी आदतों को अपना रहे हैं। जैसे हाथ धोना, बाहर के खाने से परहेज, सोशल डिस्टेंसिंग रखना और अपनी साफ़ सफाई को लेकर भी लोग सजग हो गए हैं। लोग लग्ज़री कपड़ों के बजाय पाजामा जैसे ज़रूरत के कुछ ही सेट कपड़ों में कई दिन गुज़ारने के आदी हो रहे हैं।


महंगा फैशन भी प्रभावित होगा। साथ ही, ग्लोबल बिजनेस भी प्रभावित होगा बेरोजगारी या आर्थिक हालत भी पहले से कमतर होगी इसलिए यह शौक भी खत्म होगा और ज़रूरतों के लिए खर्च की आदत पड़ेगी


पर्यटन में गिरावट


कोविड 19 के बाद की दुनिया में डर और सावधानी के चलते गैर ज़रूरी उड़ानों पर लगाम लगेगी। टर फॉर एशिया पैसिफिक एविएशन के मुताबिक मई 2020 के अंत तक दुनिया की ज़्यादातर एयरलाइन्स दीवालिया हो जाएंगी। साथ ही जब भी ये सेवाएं फिर से चालु होती है तो साफ़ सफाई, सेनिटाइजेशन और सोशल डिस्टेंसिंग आदि के कारण आपको अधिक खर्च वहन करना पड़ सकता है और फ्लाइट टिकट महंगी हो जाएगी।


ऑफिसों में बदलाव


कोविड 19 के बाद ऑफिस जाएंगे तो बहुत कुछ बदला हुआ होगा। बैठने की व्यवस्था से लेकर लोगों के व्यवहार तक में बदलाव देखने को मिलेगा। 1954 में कॉलेरा महामारी के बाद लंदन का पूरा आर्किटेक्चर बदला गया था। इधर, टीसीएस वर्क फ्रॉम होम को लंबे समय के विकल्प के तौर पर देख रहा है।


ऑनलाइन संपर्क


दुनिया भर में लॉकडाउन के चलते स्कूलों के बंद करने पर ज़ोर है। नशिक्षाविद मान रहे हैं कि पैसिव लर्निंग के दिन लद गए। अब ऑनलाइन कोर्स तैयार कर इसी तरह के शैक्षणिक ढांचे तैयार करने होंगे।


बाहर का खाना बंद


कोविड 19 के बाद रेस्टॉरेंट में खाने का चलन पूरी तरह खत्म न हो लेकिन सीमित हो ही जाएगा। इस से हमारी सेहत पर अच्छा प्रभाव पड़ेगा। विशेषज्ञ मान रहे हैं कि डिजिटल मेन्यू, रेस्तरां के किचन की लाइव स्ट्रीमिंग और वेटरों के चेहरों पर मास्क जैसे कई बदलाव दिखाई देने वाले हैं।


इंसान की कीमत


अब तक हम शायद एक दूसरे की कदर करना भूल गए थे लेकिन कोरोना वायरस के बाद हर काम की कीमत समझी जाए। हर एक इंसान जैसे सफाई कर्मचारी की कीमत भी हमको समझ आएगी। पुरुषों की मानसिकता बदलने की उम्मीद भी की जा सकती है।


Popular posts
बस्ती मंडल के नए डीआईजी श्री आर के भारद्वाज,अलीगढ़ के मूल निवासी है श्री भारद्वाज
Image
राष्ट्रीय ग़जलकार सम्मेलन में देश के 10 राज्यों के 26 शहरों के नामी गिरामी ग़जलकारों ने ग़ज़लों की महफ़िल सजाई, जमकर हुई हौसला अफजाई
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
बस्ती:-जिलाधिकारी प्रियंका निरंजन ने चार्ज ग्रहण किया,मीटिंग में अधिकारियों को आवश्यक निर्देश जारी किया।
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image