हो गई रमजान की शुरुआत,इस्लामिक कैलेंडर का यह महीना त्याग, सेवा, समर्पण और भक्ति का परिचायक है,जानिए रमजान का महत्व


लखनऊ । पाक-साफ महीने 'रमजान' की शुरूआत हो चुकी है, इस्लामिक कैलेंडर का यह महीना त्याग, सेवा, समर्पण और भक्ति का मानक है, इस्‍लाम में रमज़ान या रमदान को बेहद पवित्र माना जाता है, यह इस्‍लामी कैलेंडर का नवां महीना है, रमजान को कुरान के जश्न का भी मौका माना जाता है। इस दौरान सभी इस्लामिक लोग रोजा रखते हैं। हालांकि इस बार कोरोना वायरस के खौफ के बीच शुरू हो रहे इस पाक महीने में मुसलमानों के लिए सब कुछ पहले जैसा नहीं रहने वाला. दरअसल दुनियाभर के मुस्लिमों के लिए रमज़ान का महीना इबादतों भरा होता है।


'रमजान'
हर मुसलमान को 'रोजा' जरूर रखना चाहिए
'रमजान' के महीने में जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं मान्यता है कि 'रमजान' के महीने में जन्नत के दरवाजे खोल दिए जाते हैं और जो रोजे रखता हैं उसे ही जन्नत नसीब होती है। पैंगम्बर इस्लाम के मुताबिक 'रमजान' महीने का पहला अशरा (दस दिन) रहमत का, दूसरा अशरा मगफिरत और तीसरा अशरा दोजख से आजादी दिलाने का है। यह महीने प्रेम और अपने ऊपर संयम रखने का मानक है इसलिए कहा गया है कि हर मुसलमान को 'रोजा' जरूर रखना चाहिए।


केवल अल्लाह की इबादत करनी चाहिए
क्या करें और क्या ना करें
इस दौरान केवल अल्लाह की इबादत करनी चाहिए और सहरी और इफ्तार का खास ख्याल रखना चाहिए। इस दौरान शराब, सिगरेट, तंबाकू और नशीली चीजों का सेवन नहीं करना चाहिए। बूढ़े, बच्चे, गर्भवती महिलाएं. नवजात की मांओं और सफर करने वाले यात्रियों को रोजा ना रखने की मनाही है।


सहरी और इफ्तार


रमजान का चांद दिखाई देने के बाद सुबह को सूरज निकलने से पहले सहरी खाकर 'रोजा' रखा जाता है, जबकि सूर्य ढलने के बाद इफ्तार होता है। जो लोग रोजा रखते हैं, वो सहरी और इफ्तार के बीच कुछ भी नहीं खा-पी सकते हैं।


 'जकात'
हर इंसान को 'जकात' देना होता है
'रमजान' के दौरान हर मुस्लिम को 'जकात' देना होता है, आपको बता दें कि 'जकात' का मतलब अल्लाह की राह में अपनी आमदनी से कुछ पैसे निकालकर जरूरतमंदों को देना। कहा जाता है 'जकात' को रमजान के दौरान ही देना चाहिए ताकि गरीबों तक वो पहुंचे और वो भी ईद मना सकें।


 महीने के अंत में ईद मनाई जाती है
नब्ज को शुद्धि करने का नाम है 'रोजा'
'रोजा' में सिर्फ खाने पीने की बंदिश नहीं है बल्कि हर उस बुराई से दूर रहने की बंदिश है जो इस्लाम में मना है, इस्लाम के मुताबिक 'रोजा' केवल भूखे प्यासे रहने का ही नाम नहीं बल्कि नब्ज़ को व्यवस्थित और शुद्धि करने का नाम है और हर वर्ष 30 दिन अपनी आत्मा को शुद्ध करके हम शेष 11 महीने इसी जीवन को जीने की ट्रेनिंग पाते हैं। इस दौरान हम अल्लाह का शुक्र भी अदा करते हैं और इसलिए महीने के अंत में ईद मनाई जाती है।


Popular posts
इंसानियत का पाठ पढ़ो तो देश भक्ति सीख जाओगे – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
भारत में स्काउट गाइड के जनक पं.श्रीराम बाजपेयी हमारे आदर्श-कुलदीप सिंह
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
दिल्ली:- 12 साल के लड़के ने 18 साल की लड़की को किया गर्भवती, अस्पताल में बच्चे को जन्म देकर लड़की ने किया खुलासा
Image