अपना सर्वस्व गंवाकर हमने तुम्हारी इज़्ज़त बचाई – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


समझो तुम हमारी ज़िंदगी की प्राण वायु जैसी हो !!

अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दूंगा तुम्हें पाने की ख़ातिर !!

******************

अपना सर्वस्व गंवाकर हमने तुम्हारी इज़्ज़त बचाई !

समझ लो कितनी कीमती हो तुम हमारी ज़िंदगी के लिए !!

******************

भला जो कुछ मिला है तुमको शुक्रिया करो ईश्वर का !

सर्वस्व पाने की चाहत में कहीं तुम अपना भी गंवा मत देना !!

******************

अब किस मुंह से दुनिया के सामने मेरी तारीफ़ करोगे तुम !

अफ़सोस है मुझको अपना सर्वस्व लुटाकर भी तेरी आबरू हम बचा न सके !!

******************

अपना सुकून गंवा दोगे सर्वस्व पाने की चाहत में !

मेरा मशवरा है जो कुछ मिला है खुशहाल रहो उसमें !!

******************

सर्वस्व है यही तुम्हारे मन का यह भ्रम है !

अच्छा होगा इसे पाने की कोशिश न करो !!

******************

सर्वस्व नाम की कोई चीज़ नहीं है इस दुनिया में !

लोग हैं कि इसे उसे अपना सर्वस्व माने बैठे हैं !!

***********तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
महात्मा गांधी की पोती है अमेरिकी नागरिक, जीती है ग्लैमरस लाइफ,कांतिलाल गांधी की है पुत्री
Image
खलीलाबाद से बहराइच तक रेल लाइन बिछेगी, डीपीआर रेलवे बोर्ड को प्रेषित
Image
बस्ती की नई डीएम प्रियंका निरंजन,2013 बैच की आईएएस अफसर है प्रियंका निरंजन।
Image
ग़ज़लों की महफ़िल (दिल्ली ) ने आयोजित किया शानदार ऑनलाइन वीडियो मुशायरा,देश के कई नामी शायरों ने जूम एप के माध्यम से शिरकत किया
Image