अपना सर्वस्व गंवाकर हमने तुम्हारी इज़्ज़त बचाई – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


समझो तुम हमारी ज़िंदगी की प्राण वायु जैसी हो !!

अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दूंगा तुम्हें पाने की ख़ातिर !!

******************

अपना सर्वस्व गंवाकर हमने तुम्हारी इज़्ज़त बचाई !

समझ लो कितनी कीमती हो तुम हमारी ज़िंदगी के लिए !!

******************

भला जो कुछ मिला है तुमको शुक्रिया करो ईश्वर का !

सर्वस्व पाने की चाहत में कहीं तुम अपना भी गंवा मत देना !!

******************

अब किस मुंह से दुनिया के सामने मेरी तारीफ़ करोगे तुम !

अफ़सोस है मुझको अपना सर्वस्व लुटाकर भी तेरी आबरू हम बचा न सके !!

******************

अपना सुकून गंवा दोगे सर्वस्व पाने की चाहत में !

मेरा मशवरा है जो कुछ मिला है खुशहाल रहो उसमें !!

******************

सर्वस्व है यही तुम्हारे मन का यह भ्रम है !

अच्छा होगा इसे पाने की कोशिश न करो !!

******************

सर्वस्व नाम की कोई चीज़ नहीं है इस दुनिया में !

लोग हैं कि इसे उसे अपना सर्वस्व माने बैठे हैं !!

***********तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
वरना माँ तो माँ है तुमसे शिकायत करेगी कैसे – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
रेड क्रॉस के सचिव कुलवेन्द्र सिंह मजहबी को राज्यपाल ने सम्मानित किया
Image
आशीष श्रीवास्तव,बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने,2013 बैच के आईपीएस अधिकारी है
Image