सपने देखने का शौक़ अगर तुमको है तो मेरा मशवरा है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 


तुम्हारे सपने भी हक़ीक़त में बदल जाएंगे एक दिन ! 

जहां तक हो सके तालीम और हुनर को हासिल कर लो !! 

************************

सपने देखने का शौक़ अगर तुमको है तो मेरा मशवरा है ! 

सपने को हक़ीक़त में बदलने का तजुर्बा मुझसे ले लो !! 

************************

बचपन से लेकर अब तक बहुत कुछ हासिल किया है मैंने ! 

यक़ीन ना हो तुमको तो मेरे पड़ोसियों से जायज़ा ले लो मेरा !! 

************************

दुआ करो खुदा से मेरे सारे सपने साकार हो जाएं ! 

तुम्हारे सपनों के हिफ़ाज़त की ज़िम्मेदारी मेरी होगी !! 

************************

 तजुर्बा है मेरा अपने सपने को अपने तक ही सीमित रखो !

तमाम शख़्स ऐसे हैं जिन्हें दूसरों की तरक्क़ी पसंद नहीं !! 

************************

बड़ा खुशनसीब है वो जिसे दुआएं हासिल हो लोगों की ! 

दुआएं हासिल कर आप सपनों का महल बना सकते हैं !! 

************************

कोई ज़रूरी नहीं कि हर रात आपकी आंखों में सपने आएं ! 

बिन सपने वाली रातों में बड़ा सुकून मिलता है लोग कहते हैं !! 

**************** तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकर नगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
संजय द्विवेदी पीएचडी पात्र हेतु घोषित,राजेन्द्र माथुर का हिंदी पत्रकारिता में योगदान पर किया शोध
Image
बंधन में बँधना मेरी क़ैफ़ियत को गवारा नहीं कभी – कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती रियासत के पूर्व राजा एवं पूर्व विधायक राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की पुण्य तिथि पर श्रद्धांजलि सभा का हुआ आयोजन, उनके चित्र पर पुष्प अर्पित पर हवन कर उन्हें श्रद्धांजलि दी
Image
सहजयोग नेशनल ट्रस्ट, नई दिल्ली द्वारा पूरे भारत में कुण्डलिनी जागरण के माध्यम से आनलाइन ‘‘लाइव आत्मसाक्षात्कार, का आयोजन
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image