तुम्हारा आशियाना मेरे लिए किसी जन्नत से कम नहीं --कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


 अपना आशियाना छोड़ इधर उधर भटकते क्यों हो !

अच्छा है कि अपने आशियाने को स्वर्ग बना लो तुम !!

*************************

तुम्हारे आशियाने की तारीफ करूं तो करूं कैसे !

एक आशियाने को सजाने में उम्र चली जाती है !!

*************************

तुम्हारा आशियाना मेरे लिए किसी जन्नत से कम नहीं !

अपने आशियाने में एक रात हमें ठहरने का मौक़ा दे दो !!

*************************

यूं तो बहुतों के आशियाने देखे हैं इस आँख से मैंने !

मगर तुम्हारे आशियाने की तस्वीर आँखों में बस गई !!

*************************

 कहाँ है मेरा आशियाना मुझे पता ही नहीं !

मेरे आशियाने का पता कौन बताए मुझको !!

*************************

बड़ी मुश्किल से तेरे आशियाने का पता मिला मुझको !

अब यहाँ पहुँच ही आया हूं तो ठहरने की इजाज़त दे दो !!

*************************

तेरे आशियाने का रंग निखर गया मेरे आ जाने से !

अपने आशियाने से मेरा रिश्ता जोड़ क्यों नहीं लेते !!

*************************

मैं अपनी खुशी का पैमाना तुम्हें कैसे बताऊं आखिर !

एक बार मेरे आशियाने आओ तो शायद जान जाओ !!

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
सेंट एंथोनी कॉन्वेंट स्कूल डेयरी कॉलोनी गोरखपुर में महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी के जन्मदिन पर गीत संगीत और नृत्य का हुआ आयोजन
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
ईमानदारी का मिसाल बना ऑटो चालक यूसुफ ने अपनी सवारी का रुपये से भरा पर्स पाने पर पुलिस को लौटाया
Image
बिजली उपभोक्ताओं के लिए एकमुश्त समाधान योजना उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 प्रतिशत तक अधिभार में छूट:--अधिशासी अभियंता संतोष कुमार
Image
284 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह का डायरेक्टर गिरफ्तार
Image