अपनी कविताओं में आम आदमी का दर्द बयां कर दो तुम -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

 

कविता लिखना - पढ़ना हर किसी के वश में नहीं ! 

कविता लिखने - पढ़ने को ज़िंदा ज़मीर चाहिए !! 

*************************

यूं कविता को मनोरंजन का विषय बनाना ठीक नहीं ! 

कविता जो समाज को आईना दिखाए उसे अच्छी समझो !! 

*************************

यूं क्या पूछते हो मुझसे मेरी कविता का भविष्य तुम ! 

मेरी कविता दिल लगाकर सुनो तो शायद जान जाओ !! 

************************

यूं तो इस दौर में कवियों की बहुत भीड़ है ! 

एक सच है मगर चंद लोग लिखते हैं कविता !! 

************************

तुम्हारी कविता सुनकर ऐसा लगता है ! 

हमें ख़ुशी से ताली बजा देनी चाहिए !! 

*************************

यूं तो लिख रहे हो कविता बड़े शौक से तुम ! 

शौक से कविता पढ़ी भी जाए तो अच्छा है !! 

*************************

कविताओं का बाज़ार खोज रहा है बहुत दिनों से वह ! 

ताज्जुब है अभी तक कविताओं का बाज़ार मिला नहीं उसे !! 

*************************

बड़ी हैरत है मुझको कवियों का सच कहूं भी तो किससे ! 

कविता लिखने वालों को भी औरों की कविता सुनना पसंद नहीं !!

*************************

अपनी कविताओं में आम आदमी का दर्द बयां कर दो तुम ! 

मेरा वादा है तुम्हारी कविताओं का बाज़ार बन जाएगा !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
नई पीढ़ी* ने जड़ी-बूटी दिवस के रुप में मनाया आचार्य बालकृष्ण का जन्मदिन *नई पीढ़ी" के प्रेरणा श्रोत हैं आचार्य बालकृष्ण - शिवेन्द्र प्रकाश द्विवेदी
Image
हिंदू युवा वाहिनी के पूर्व जिलाध्यक्ष अज्जू हिंदुस्तानी की प्रथम पुण्य तिथि पर शांति पाठ,श्रद्धांजलि सभा, सहभोज का हुआ आयोजन
Image
प्राकृतिक तरीको से घटाए यूरिक एसिड का लेवल डा . वी . के.वर्मा
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
284 करोड़ रुपये की ठगी करने वाला अन्तर्राज्यीय गिरोह का डायरेक्टर गिरफ्तार
Image