तुम्हारे आंचल में दुनिया की हर दौलत है -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु

तेरे आंचल की खुशबू बस गई है रग-रग में मेरे ! 

भला तेरे आंचल की क़ीमत मैं चुकता करूं कैसे !! 

*************************

तेरा आंचल मेरे मन की दवा बन जाएगा ! 

शर्त है अपना आंचल हवा में लहरा दो तुम !! 

*************************

तेरा आंचल मुझको दुआ देने के लिए काफ़ी है ! 

काश अपने आंचल में एक बार छुपा लो मुझको !! 

*************************

तेरा आंचल बहुत क़ीमती है मेरे लिए ! 

दवा और दुआ के लिए मिली हो तुम !! 

*************************

खुद को इतना कमजोर क्यों समझती हो ! 

तुम्हारे आंचल में दुनिया की हर दौलत है !! 

************************

तुम्हीं बताओ मैं तुम्हारी खूबियों का ज़िक्र करूं कैसे ! 

तुम्हारे आंचल की छांव में बड़ा सुकून मिलता है मुझको !! 

*************************

तुम्हें हमारी खूबियों का एहसास हो जाएगा ! 

सर से जिस दिन मेरा आंचल उतर जाएगा !! 

*************************

बड़ी कद्र करता हूं मैं तेरे आंचल की ! 

इसकी छांव में मेरे बच्चों की खुशियां हैं !! 

*************************

कद्र क्यों नहीं करते किसी मां के आंचल की ! 

मां का आंचल ही तुम्हें इस मुक़ाम पर लाया है !! 

*****************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
सेंट एंथोनी कॉन्वेंट स्कूल डेयरी कॉलोनी गोरखपुर में महात्मा गांधी एवं लाल बहादुर शास्त्री जी के जन्मदिन पर गीत संगीत और नृत्य का हुआ आयोजन
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
बस्ती के नए सीडीओ राजेश कुमार प्रजापति,
Image
ईमानदारी का मिसाल बना ऑटो चालक यूसुफ ने अपनी सवारी का रुपये से भरा पर्स पाने पर पुलिस को लौटाया
Image
प्रतिकार फिल्म चौरी चौरा 1922 में सांसद रवि किशन की दमदार भूमिका,, सीन देख कर दर्शकों की विभिन्न प्रतिक्रिया
Image