कलियुग की पीड़ा को बयां करें तो किससे हम -- कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु


 जीवनदान मिले तुमको बस एक यही दुआ है ईश्वर से !

जीवन का सुख संभव है ज़िंदा धरती पर रहने से !! 

*************************

जीवनदान की इच्छा लेकर सिर झुका है चरणों में ! 

मानवता के परम पुजारी सोचो क्या है फ़र्ज़ तुम्हारा !! 

*************************

जीवनदान मिला तुमको यही खुशी है हमको ! 

जग में पूजा जाए तुमको केवल अच्छे कर्मों से !! 

*************************

कुछ कर्म तुम्हारे अच्छे थे जो जीवनदान मिला तुमको ! 

वरना इस अपराध के बदले मौत तुम्हारी निश्चित थी !! 

*************************

जब याद तुम्हारी आई मुझको आंख में आंसू मेरे थे ! 

बात समझ में आए उसको जीवनदान मिला हो जिसको !! 

*************************

देकर जीवनदान तुम्हें मैं भी अब आजाद हुआ हूं ! 

इतनी लंबी उम्र में मुझको ऐसा दृश्य दिखा नहीं !! 

*************************

तेरे मेरे जीवन की अब गौरव गाथा कौन सुनेगा ! 

जीवनदान देकर उसको एक नया इतिहास रचो !!

*************************

मेरा अपना कर्म था ऐसा पाया मैंने जीवन दान ! 

कलियुग की पीड़ा को बयां करें तो किससे हम !! 

******************तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु कवि व मंच संचालक अंबेडकरनगर उत्तर प्रदेश !

Popular posts
राजा लक्ष्मेश्वर सिंह की 67 वी जयंती पर राजभवन बस्ती में हुए विभिन्न कार्यक्रमो ने लोगो का मन मोहा, हुआ पुस्तक विमोचन
Image
बस्ती के नए पुलिस अधीक्षक बने गोपाल कृष्ण चौधरी, 2016बैच के है आईपीएस अधिकारी,
Image
परशुरामाचार्य पीठाधीश्वर स्वामी श्री सुदर्शन महाराज द्वारा सम्मानित हुए —कवि डॉ० तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image
बस्ती:-सौम्याअग्रवाल आईएएस,बस्ती की नई जिलाधिकारी बनी, जानिए उनकी सफलता की कहानी
Image
संसार के चिरंजीवी महापुरुषों में एक नाम परशुराम –कवि तारकेश्वर मिश्र जिज्ञासु
Image